Breaking News
Home / देश / आम आदमी पार्टी और कांग्रेस मिलकर 2019 का आम चुनाव लड़ेंगी !
sonia-kejriwal-rahul

आम आदमी पार्टी और कांग्रेस मिलकर 2019 का आम चुनाव लड़ेंगी !

नयी दिल्ली। यह बात बिल्कुल है कि राजनीति में दोस्ती व दुश्मनी कभी स्थायी नहीं होती है। बदली हुई परिस्थितियों में दोस्त दुश्मन बन जाते हैं और दुश्मन दोस्त बन जाते हैं। ऐसा ही कुछ कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के बीच खिचड़ी पकने की अफवाहें राजनीतिक गलियारों में गर्म हो रही हैं। यह भी कहा जा रहा है कि आगामी आम चुनाव मंे महागबंधन में केजरीवाल भी शामिल होने जा रहे हैं। यह भी चर्चा में है कि दिल्ली में आप 4 और कांग्रेस 3 लोक सभा सीट पर चुनाव लड़ सकती हैं।

आप प्रवक्ता दिलीप पाण्डेय का ट्वीट इस बात को और भी पुख्ता कर रहा है कि कुछ तो है ट्वीट में लिखा कि कागं्रेस के कुछ बड़े नेता हमारे संपर्क में है। वो चाहते हैं कि आने वाले आम चुनाव में पंजाब और दिल्ली में सीटों का तालमेल हो जाये ताकि मोदी की आंधी से निपटा जा सके। लेकिन इसके उलट दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष अजय माकन ने ट्वीट कर कहा कि दिल्ली की जनता ने आप सरकार और पार्टी दोनों को ही नकार दिया है तो हम आम आदमी पार्टी की ओर क्यों जायेंगे। हालांकि दोनों ही पार्टियों के दिग्गज नेता ऐसी किसी भी संभावना से इनकार कर रहे हैं।

हाल ही में आप संयोजक अरविंद केजरीवाल ने यूपीए सरकार के समय पीएम रहे डा. मनमोहन सिंह की सार्वजनिक रूप से प्रशंसा की थी। तभी से आप और कांग्रेस के बीच नजदीकियां बढ़ने की चर्चा होने लगी थी। कर्नाटक में सरकार बनने के समय कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और सोनिया गांधी बंगलुरु गये थे। इस मौके पर दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल भी वहां मौजूद थे। कयास यही लगाया जा रहा है कि वहीं राहुल सोनिया और केजरीवाल के बीच आगामी आम चुनाव में एक साथ आने की बात हुई होगी। यह माना जा रहा है कि लगभग सारे विपक्षी दल महागठबंधन के बैनर तले मोदी को चुनौती देने का मन बना रहे हैं। एक कहावत है कि दुश्मन का दुश्मन दोस्त होता है इसलिये मोदी के सारे विरोधी आपस में एकजुट होकर कड़ी टक्कर देने की सोच रहे हैं।

यह भी सच है कि केजरीवाल ने पहली बार सरकार बनाने के लिये कांग्रेस का समर्थन लिया था। इसके कारण बीजेपी को सत्ता से दूर रहना पड़ा था। मोदी राहुल और केजरीवाल दोनों के ही निशाने पर हैं। इसलिये आगामी लोकसभा चुनाव में एक ही मंच पर दिखें तो कोई बड़ी बात नहीं होगी। इससे पहले भी कांग्रेस ने सीपीएम के वरिष्ठ नेता सोमनाथ चटर्जी को 2004-09 में आपनी सरकार के दौरान लोकसभा का स्पीकर बना दिया था। यह भी अपने आप में एक इतिहास बना जब सीपीएम और कांग्रेस एक ह ीमंच पर नजर आते थे। यह बात और है कि पार्टी ने सोमनाथ चटर्जी को पार्टी से निकाल दिया था।

विनय गोयल की रिपोर्ट

Next9news

Check Also

Upendra-Kushwaha-to-Meet-BJP-Chief-Amit-Shah-on-Monday-Over-Seat-Sharing-in-Bihar-NDA

उपेंद्र को मनाने की कोशिश में शाह, तेजस्वी से बढ़ी नजदीकियां

नयी दिल्ली। मिशन 2019 के लिये बीजेपी अपने पुराने साथियों को हर हाल साथ में …