Breaking News
Home / देश / नोटबंदी फैसले के बाद हाइवे के पास की जमानों की जांच

नोटबंदी फैसले के बाद हाइवे के पास की जमानों की जांच

नई दिल्ली: मोदी सरकार के द्वारा लिए गए नोचबंदी फैसले के बाद अब कालेधन की रोकथाम को बढ़ाते हुए एक औऱ सर्जिकल स्ट्राइक किया जा रहा हैं। बता दे कि शहरों के हाइवे के पास की जमीनों की जांच शुरू हो गई हैं साथ ही प्रमुख शहरों की वीवीआईपी इलाकों की जायजादों की जांच को भी शुरू कर दिय़ा हैं।

इसे भी पढ़े : नोटबंदी के बाद आज भी संसद में हो सकता हैं हंगामा, सदन स्थगित होने के आसार

सरकार ने लोगों की बढ़ती परेशानियों को देखते हुए देश से ब्लैकमनी को समाप्त करने के लिए ऐसे ऐतिहातन कदम उठाए हैं। हाइवे की जमीने के अलावा प्रमुख औद्योगिक प्लॉटों, कमर्शियल फ्लैटों और दुकानों की भी जांच शुरू हो गई हैं।

अब इस बात की पुष्टि की जा रही हैं कि आखिर दुकाने किसने नाम पर हैं औऱ प्लॉट किसके नाम पर। इस जांच के बाद पता लगेगा कि आखिर प्लॉटों, फ्लैटों के असली मालिक हैं कौन। अधिकारिक सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक एक बंगले का सच सामने आया कि बंगला असल मालिक के सीए के नाम पर खरीदा गया था।

इस सर्जिकल स्ट्राइक में अब ऐसे ही सभी मामलों की जांच की जा रही हैं। बता दे कि सरकार ने सरकारी विभागों से सरकारी जमीनों का ब्यौरा मांगा हैं ताकि भ्रष्टाचार पर नकेल कस सके। इस जांच प्रक्रिया में सरकार ने आय़कर विभाग के साथ कई अन्य अहम विभागों की मदद ली हैं।

इसे भी पढ़े : मुल्क की दुर्भाग्यवश आवाम, जो हो रही हैं कुर्बान

गौरतलब हैं कि ऐसे किसी भी मसले पर बेनामी ट्रांजेक्शन एक्ट 2016 के तहत मामले पर कार्रवाई की जाएगी। बता दे इस एक्ट को हालि में एक नवम्बर से लागू किया गया हैं। जिसके चलते बेनामी सम्पत्ति बरामद की जाएगी और इसमें सात साल की सजा का प्रावधान हैं।

Next9News

Check Also

पंजाब में कांग्रेस के अभी भी असली सरदार है मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह

पंजाब कांग्रेस का एक वर्ग कैप्टन अमरिंदर सिंह को चूका हुआ मान रहा है। इनकी …