Home / खुला खत / अमर सिंह तलाश रहे राजनीतिक ठिकाना
amar_singh-2

अमर सिंह तलाश रहे राजनीतिक ठिकाना

पूर्व सपा नेता और राज्य सभा सदस्य अमर सिंह की परेशानिया बढ़ती जा रही हैं। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने उन्हें पार्टी से बाहर कर दिया है। राज्यसभा में वो बिना दल के सांसद हैं। वहां भी उनकी कोई वकत नहीं है। तब से वो अपने राजनीतिक ठिकाने की तलाश है लेकिन कोई भी राजनीतिक दल उन्हें लेने को तैयार नहीं है। कांग्रेस उन्हें लेने को तैयार नहीं है क्यों कि वो अक्सर सोनिया राहुल के खिलाफ बयानबाजी करते रहे हैं। बसपा को तो अमर सिंह वैसे भी पसंद नहीं करती है। अमर सिंह का इतिहास बताता है कि अमर सिंह की वजह से समाजवादी पार्टी में दो बार फूट पड़ चुकी है। पहली बार समाजवादी पार्टी के मुखिया मुलायम सिंह ने अमर सिंह को आजम खां के कारण पार्टी बाहर का रास्ता दिखा दिया था। ये बात दीगर है कि आजम भी कुछ समय के लिये पार्टी से बाहर रहे। दूसरी बार 2016 में पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने उन्हें बेइज्जत कर बाहर कर दिया। इस बात से अमर सिंह को काफी झटका लगा। उन्होंने सार्वजनिक रूप से बयान दिया कि वो अब कभी भी सपा नहीं ज्वाइन करेंगे। जनता दल यू के संस्थापक शरद यादव पर भी कटाक्ष करने से नहीं चूके हैं कहा कि एनडीए में शामिल होने और वहां मंत्री बनने पर भाजपा सांप्रदायिक पार्टी नहीं आज उन्हे भाजपा कम्युनल पार्टी दिख रही है।
राजद सुप्रीमो लालू के खिलाफ भी गाहे बगाहे विवादित टिप्पणियां करते रहे हैं। इसलिये वहां भी उनकी दाल गलने वाली नहीं है। अमर सिंह की बयानबाजी व बड़बोलेपन से सभी दल अच्छी तरह से वाकिफ है। यही वजह है कि उनकी एन्ट्री सब जगह बैन है।
ले दे के भाजपा ही बची है जहां से उन्हें कुछ आशा है कि राजनाथ सिंह उनकी पैरवी करें तो भाजपा में जगह बन सकती है। लेकिन ऐसा करने के लिये अमित शाह और मोदी की एनओसी जरूरी है। लेकिन हाल फिलहाल पार्टी की ओर से ऐसा कोई सिग्नल मिलता नहीं दिख रहा है। यही अमर सिंह के लिये परेशानी का सबसे बड़ा सबब है।

विनय गोयल के विचार

Next9news

Check Also

subrat

सपनों का सौदागर सुब्रत राॅय सहारा

पिछले तीन साल से सहारा समूह पर सेबी की वक्र दृष्टि है। दो साल तक …