Home / खुला खत (page 4)

खुला खत

बेसहारा हो गया…

mother

बेसहारा हरे भरे बाग का बागवां बेसहारा हो गया, उम्मीदों में लगा पेड़ अब बड़ा हो गया, छांव के लिये तरसता बागवां बेसहारा हो गया, खून पसीने से सींचा पेड़ अब वो खड़ा हो गया, फल खाने के समय बागवां बेसहारा हो गया, चार दीवारियों से घिरा पेड़ अब हरा …

Read More »

जागों लाइनों में खड़े हो जाओ

india-flag-revolution

कवि की कविता जो लोगों को एहसास कराती हैं जिन्दगी से जुड़े फलसफों के बारे में… बचो देश के गद्दारों से, “भारत माता” का नारा लगाएगा नासमझी थी, समझाकर, देशवासियों को लूट जाएगा जागों लाइनों में खड़े हो जाओ, देश का काला धन खत्म हो जाएगा। तुम्हारे कंधों पे बंदूक …

Read More »

संदेश कविता की पहल में…

pen

कवि की कविता जैसे किसी का पहला प्यार, दिल से जुड़े जज्ब़ात या फिर वो बात जो दिल की तह में बस गई हो। कविता वो एहसास हैं, जो मन में चल रही विडम्बनाओं को शब्दों के जरिए परोसा जाता हैं। किसी कवि की पहली कविता वे शुरूआती अक्षर होते …

Read More »

अंधकार से प्रकाश की ओर……

diwali

अंधकार जब नभ में बढ़ता जाएं डरावनी आवाज जब तुम्हें सताए आओँ! ऐसे पल में अपने मन में एक दीया ही जलाए । दीया जो तर्कपूर्ण ज्ञान का हो, वस्तुपरक विज्ञानं का हो जो मिथ से पर्दा उठाकर आदम्बरवादियोँ को दूर भगाकर अँधविश्वासोँ को जलाए। अंधकार जब नभ में बढ़ता …

Read More »