Home / खुला खत (page 5)

खुला खत

एक वेश्या का खुला खत

kjfjh

वेश्या शब्द जैसे कानों में पड़ते ही लोगों के चेहरे पर मुस्कराहट रेंग जाती है। लोगों के दिमाग में सेक्स की अजीब सी इच्छा जाग्रत हो जाती है। यह सब इसलिये होता है क्योंकि उस महिला या लड़की बारे में कि वो एक सेक्सवर्कर है। सुनी सुनाई बातों पर एक …

Read More »

मासूम बच्चियां आख़िर क्यों बन रही हैं हवस का शिकार……

girl rape

हम कहां सुरक्षित हैं और आखिर हम कहां जाएं’! यह सवाल केवल मेरे नहीं, बल्कि आजकल हर महिला के मन में चल रहा है। पिछले कुछ समय से लगातार कुछ घटनाओं ने स्त्री के सामने यह चुनौती खड़ी कर दी है कि वे सोचें कि इस सामाजिक व्यवस्था में उनका …

Read More »

दिल्ली मेट्रो क्यों बनती जा रही है आफत…….

metro_cb4cffdc-6cc6-11e5-9358-ce0f694bc37c

24 दिसम्बर 2002 को दिल्ली मेट्रो की शुरुआत हुई, 160 मेट्रो स्टेशनों को जोड़ने वाली मेट्रो में करीब रोज़ाना 2 लाख से अधिक लोग इसमें यात्रा करते हैं, दिल्ली की लाइफ लाइन कही जाने वाली मेट्रो इन दिनों लोगों की परेशानी का सबब बनी हुई है । दिल्ली मेट्रो दिल्ली वालों …

Read More »

ज़िन्दगी में कामयाबी की ऊंचाई पाने के लिए दूसरों को गिराना ज़रूरी नहीं

journey

  दोस्तों, आज हमारी ज़िन्दगी में हम इंसानों की मानसिकता और सोच इस तरह की बन चुकी है कि हम अपनी ज़िन्दगी में कामयाबी की ऊंचाइयो को पाने के लिए दूसरे को गिराना ज़रूरी समझते हैं,  अपनी जीत से ज़्यादा दूसरों को हराना ज़रूरी समझते हैं। दरअसल, आज यही सोच …

Read More »

घुटन की दास्तां बहुत पुरानी हैं…

depression

कैसा होता है वो शख्स जिसके पास आप बीती सुनाने के लिए कोई न हो जो अंदर ही अंदर घुट रहा हो किसी न किसी बात को लेकर, कैसा होता होगा वो शख्स जो बहुत कुछ कहना चाहता हैं लेकिन किसी के न होने के डर से बातों को मन …

Read More »

शहादत देश के लिये…

salute-to-indian-army

देशभक्ति की राह में शहीदों की शहादत याद रखना, देश के लिये शहीद जवानों का सम्मान रखना, भारत मां की चाह में कुर्बानी दे दी याद रखना, देशभक्ति की राह में शहीदों की शहादत याद रखना। देशभक्ति में वीर जवानों का सम्मान याद रखना, खुशियों का दीप जलाकर क्रांतिकारी मान …

Read More »

लाचार मम्मा की उम्मीद…

mother-waiting-his-son

गोधुली बेला में चला गया, खेल खेलने टोली सूरज चाचा चले गये तो, लगा डराने टोली, चंदा मामा निकल गये फिर, लगा झूमने टोली ढूंढते-ढूंढते मम्मा पहुंची, बोले प्यार की बोली, गले लगाके मम्मा, देखन चाहे मुखड़ा चोरी मम्मा की ममता प्यार से, बोले प्य़ारी बोली, समझ ना आया क्यों …

Read More »

नादान इश्क़…

one-sided

लरजते लम्हों से दिल की बातें, कह ना सका नैनों का इशारा था, इजहार कर ना सका, उसकी आंखों की चाहत, दिल सह ना सका चाहत को रूसवाईयों के, डर से कह ना सका, चली गई तन्हाईयों में, जुदाई सह ना सका लरजते लम्हों से दिल की बातें, कह ना …

Read More »

मां की ममता का कर्ज़…

mother

मां तू ममता की धनी, मैं कंगला रह गया बचपन में सुना लोरी सोचा सुनाऊं भजन चोरी पड़ी पैनी नज़र उसकी… कड़वा वचन बोल चला गया तेरा दूध पीकर भी, मैं चंडाल बन गया तरसे तू रोटी के खातिर खिलाने निकला तुझे रोटी पड़ी पैनी नज़र उसकी… कुतिया को डाल …

Read More »

फिर ये दीवार क्यों…

family

भाई बंधु सब अपने, रिश्तों में प्यार चाहिये फिर ये दीवार क्यों मां की ममता, भाईचारा, प्यार का एहसास चाहिये फिर ये दीवार क्यों भाई को भाई का साथ, एक छत की छांव चाहिये फिर ये दीवार क्यों स्वर्ग से सुन्दर घर में, आंगन बड़ा विशाल चाहिये फिर ये दीवार …

Read More »