Breaking News
Home / खुला खत (page 9)

खुला खत

संदेश कविता की पहल में…

pen

कवि की कविता जैसे किसी का पहला प्यार, दिल से जुड़े जज्ब़ात या फिर वो बात जो दिल की तह में बस गई हो। कविता वो एहसास हैं, जो मन में चल रही विडम्बनाओं को शब्दों के जरिए परोसा जाता हैं। किसी कवि की पहली कविता वे शुरूआती अक्षर होते …

Read More »

अंधकार से प्रकाश की ओर……

diwali

अंधकार जब नभ में बढ़ता जाएं डरावनी आवाज जब तुम्हें सताए आओँ! ऐसे पल में अपने मन में एक दीया ही जलाए । दीया जो तर्कपूर्ण ज्ञान का हो, वस्तुपरक विज्ञानं का हो जो मिथ से पर्दा उठाकर आदम्बरवादियोँ को दूर भगाकर अँधविश्वासोँ को जलाए। अंधकार जब नभ में बढ़ता …

Read More »