Breaking News
Home / देश / चुनाव स्पेशल / ईवीएम विवाद पर शनिवार को देगा डेमो
evm AAP-3

ईवीएम विवाद पर शनिवार को देगा डेमो

नयी दिल्ली। पिछले तीन माह से ईवीएम को लेकर काफी गहमा-गहमी रही है। विपक्षी राजनीतिक दलों ने ईवीएम की टैंपरिंग व हैकिंग को लेकर काफी बयानबाजी की थी। कुछ ने तो चुनाव आयोग की विश्वसनीयता पर ही सवाल उठा दिये थे। यह आरोप लगाया गया कि चुनाव आयोग व सत्तारूढ़ दल की मिलीभगत से पांच राज्यों में हुए चुनाव परिणामों में भारी धांधली की गयी है। पांच राज्यों में पंजाब को छोड़ सभी राज्यों में भाजपा व समर्थक दलों की सरकारें बनी हैं। चुनाव आयोग इस डेमो के जरिये अपनी विश्वसनीयता पर उठ रही उंगलियों का विराम लगाना चाह रहा है। आयोग का मानना है उनकी ईवीएम को हैक व टैंपर नहीं किया जा सकता है।

ईवीएम के टैंपरिंग पर सबसे पहला आरोप बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमो मायावती ने लगाया। उन्होंने कहा था कि भाजपा ने किसी भी मुस्लिम को अपना उम्मीदवार नहीं बनाया था उसके बावजूद यूपी में बीजेपी को इतना प्रचंड बहुमत मिला और उनके प्रत्याशियों को जीत मिली है। मुस्लिम बहुल विधानसभाओं में गैरमुस्लिम प्रत्याशियों का जीतना इस बात का प्रमाण है कि चुनाव आयोग व भाजपा की मिलीभगत से वोटिंग मशीनों को टेंपर किया गया। इससे उनको चुनाव में करारी हार का सामना करना पड़ा। मायावती के इस आरोप के समर्थन में समाजवादी पार्टी, कांग्रेस, बामदल और आम आदमी पार्टी आ गयीं।

आम आदमी पार्टी ने तो यहां तक आरोप लगाया कि चुनाव आयोग ने धृतराष्ट्र की तरह अपने पुत्र मोदी सरकार व भाजपा को जिताने के लिये ईवीएम को टैंपर या हैक करवायी है। चुनाव में मतदाताओं ने आम चुनावों व एमसीडी मे उनकी पार्टी के पक्ष में मतदान किया लेकिन परिणाम में बीजेपी के विजयी बना दिया गया। उनका दावा है कि अगर चुनाव आयोग उन्हें अपनी वोटिंग मशीनें तीन घंटोंके लिये मुहैया करा दे तो उनके एक्सपर्ट ईवीएम हैक कर के दिखा देंगे।

विनय गोयल की रिपोर्ट

Next9news

Check Also

Upendra-Kushwaha-to-Meet-BJP-Chief-Amit-Shah-on-Monday-Over-Seat-Sharing-in-Bihar-NDA

उपेंद्र को मनाने की कोशिश में शाह, तेजस्वी से बढ़ी नजदीकियां

नयी दिल्ली। मिशन 2019 के लिये बीजेपी अपने पुराने साथियों को हर हाल साथ में …