Breaking News
Home / टेली मसाला / अगर आपने भी किया हैं ये घोर पाप तो नर्क होगा ये अंजाम
paap

अगर आपने भी किया हैं ये घोर पाप तो नर्क होगा ये अंजाम

प्रकृति के नियम  के अनुसार ये मानव शरीर विशेष रूप से आत्म साक्षात्कार के लिए मिला है। इसे कर्मयोग, ज्ञानयोग या भक्तियोग में से किसी एक विधि के द्वारा ही हासिल किया जा सकता है। योगियों के लिए यज्ञ सम्पन्न करने की कोई जरुरत हीं रहती क्योंकि वे पाप-पुण्य से दूर होते हैं किन्तु जो लोग इंद्रियतृप्ति में जुटे हुए हैं उन्हें पूर्वोक्त यज्ञ-चक्र की ओर से शुद्धिकरण की जरुरत होती है।

भविष्य पुराणों की मानें तो पृथ्वी पर जन्म लेने वाले हर प्राणी को तन, मन और वचन से किए गए बुरे कर्मों का फल जरुर मिलता है, और इन्ही में से कुछ पाप महापाप भी माने जाते हैं और अगर ये पाप आपने किया है तो आपको नर्क में सबसे बड़ी सजा दी जाती है।

बता दें कि जो लोग दूसरों की वस्तु हड़पने या चुराने की कोशिश करते हैं वो महापापी लोगों की श्रेणी में आते हैं। किसी और की वस्तु को छल से हड़पने या चुराने में जीवन के सभी पुण्य कर्म खुद ब खुद ही नष्ट हो जाते हैं। चोरी की हुई वस्तु कभी भी फलदायी नहीं हो सकती, बल्कि उसके कारण कहीं न कहीं नुकसान का ही सामना करना पड़ता है, और दान न कर वाले भी महापापी ही होते हैं।

गुरु ही इंसान को अच्छे और बुरे का ज्ञान देता है। गुरु को पिता समान और गुरुपत्नी को माता के समान माना जाना चाहिए। गुरुपत्नी से संबंध रखने वाले या गुरुपत्नी को बुरी नजर से देखने वाले इसांन को ब्रह्म हत्या से भी बड़ा पाप लगता है, और इस तरह के पापों का प्रायश्चित किसी भी तरह से संभव नहीं होता, वहीं अगर कोई मनुष्य जान कर या भूल से किसी की हत्या कर देता है, तो ये कर्म महापाप की श्रेणी में आता है। ऐसा कर्म करने वाले मनुष्य दुखों का सामना करते हैं। न केवल हत्या करने वाला बल्कि ऐसे काम में साथ देने वाले मनुष्य को भी कुंभीपाक नाम के नरक की कई सारी यातनाएं सहनी पड़ती है, और इसीलिए मनुष्य को भूलकर भी हत्या जैसे बुरे कर्म में भागीदार नहीं बनना चाहिए। बता दें कि नौकरों से बुरा व्यवहार, पशु-पक्षियों पर जुल्म भी महापाप की श्रेणी में आता है।

Check Also

aditya-narayan

उदित नारायण का बेटा आदित्य को पुलिस ने पकड़ और थाने से मिली जमानत

नयी दिल्ली। मशहूर गायक उदित नारायण के बेटे को एक्सीडेंट करने के आरोप में मुंबई …