Breaking News
Home / देश / आखिर शराबबंदी से क्या हासिल हो रहा है…

आखिर शराबबंदी से क्या हासिल हो रहा है…

बिहार देश के उन गिने चुने राज्यों में से एक है जहां पर शराब पूरी तरह से बैन कर दी गई है। इसी साल के अप्रैल महीने में राज्य के सीएम नीतिश कुमार ने राज्य में हर तरह की शराब को पूरी तरह से बैन कर दिया। शराब से त्रस्त परिवारों को जब सरकार का यह फैसला पता चला, तो उन्होंने जमकर खुशी मनाई लेकिन लगता है उनकी खुशी को किसी की नज़र लग गई है। दरअसल बीते दिनों जिस तरह से गोपालगंज ज़िले के एक गांव में कथित तौर पर ज़हरीली शराब को पीने से कम से कम 16 लोगों की मौत हुई है, उसने शासन और प्रशासन के दावों की पोल खोल के रख दी है।

शुरू में तो अधिकारी यह तक मानने को राजी नहीं थे, कि इन लोगों की मौत जहरीली शराब पीने की वजह से हुई है। मगर मरने वाले व्यक्ति जिस तरह से बार-बार शराब पीने की बात कह रहे हैं उससे तो यही लगता है कि सरकार इस मामले से खुद को बचाने में लगी हुई हैं। तभी तो जांच के नाम पर महज खाना पूर्ती भर की जा रही है। चलिये अगर शासन अभी किसी नतीजे पर नहीं पहुंच रहा है तो भी मृतकों को परिवारजनों के दर्द को इतनी आसानी से दरकिनार नहीं किया जा सकता है। एक साथ गांव में 16 लोगों की मौत हो जाना कोई छोटा-मोटा मामला नहीं है। अगर पुलिस शराबबंदी को लेकर इतनी मुस्तैद है तो फिर क्यों ये हादसे हो रहे हैं।

मरने वालों में ज्यादातर वो लोग हैं जो अभी जवान हैं। इस तरह से घर के सदस्य के मर जाने से गरीब परिवार वालों पर तो मानों दुखों का पहाड़ ही टूट पड़ा है, लेकिन बावजूद इसके सरकार सिर्फ जांच का आश्वासन देकर दिलासा देने में लगी हुई है। वैसे भी जिन घरों ने इन मौतों को देखा है, उन्हें शायद ही शराबबंदी कानून से अब कोई बहुत ज्य़ादा उम्मीद हो।

Check Also

पंजाब में कांग्रेस के अभी भी असली सरदार है मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह

पंजाब कांग्रेस का एक वर्ग कैप्टन अमरिंदर सिंह को चूका हुआ मान रहा है। इनकी …