Breaking News
Home / देश / शहीद के अंतिम संस्कार में कम पड़ीं लकड़ियां तो अधजले शरीर को काटा
shaheed

शहीद के अंतिम संस्कार में कम पड़ीं लकड़ियां तो अधजले शरीर को काटा

जयपुर। किसी भी नागरिक के लिए देश की रक्षा करना एक सम्मान की बात है, और देश के लिए बलिदान देना सबसे बड़े गर्व की बात है, न सिर्फ उसके लिए बल्कि उसके परिवार के लिए भी। लेकिन जरा सोचिए कि जो जवान देश की आबादी को सलामत रखने के लिए अपनी जान तक कुर्बान कर देते हैं और उनकी चिता को जलाने के लिए कुछ लकड़िया भी नसीब न हों तो इसे देश की बदनसीबी नहीं तो और क्या कहेंगे।

जम्मू-कश्मीर में आतंकियों से मुठभेड़ में रमेश चौधरी शहीद हो गए। जिसके बाद उनके पार्थिव शरीर को उनके घर राजस्थान के सिरोही में ले जाया गया। जब रमेश का अंतिम संस्कार किया गया तो लकड़ियां कम पड़ गईं।जिसके बाद पार्थिव शरीर के टुकड़े करके चिता में जलाने का प्रयास किया गया।

शहीद रमेश कुमार चौधरी का पार्थिव शरीर तिरंगे में लिपटा हुआ जब सिरोही के नागाणी गांव में पहुंचा। तब शहीद के घरवालों का रो-रोकर बुरा हाल था। पूरे गांव में मातम पसरा हुआ था। आसपास के गांव समेत सैंकड़ो लोग इस जांबाज को अंतिम विदाई देने पहुंचे। शहीद रमेश के पार्थिव शरीर को पंचतत्व में विलीन करने के दौरान कुछ लकड़ियां कम पड़ गईं। इसके बाद जो शहीद रमेश के पार्थिव शरीर के साथ हुआ उसको सुनकर किसी का भी दिल भर आएगा। उसके अधजले शरीर के अंगों को काटकर आग में जलाने का प्रयास किया गया। अंतिम संस्कार में मौजूद लोगों ने जब ये नजारा देखा तो उनके रोंगटे खड़े हो गए।

इतना ही नहीं अंतिम संस्कार में राजस्थान के गोपालन मंत्री ओटाराम देवासी और स्थानीय प्रशासन भी जुटा था,  लेकिन नेताजी जरा जल्दी में दिखे। उन्होंने अपनी फोटो खिंचवाई और अंतिम संस्कार पूरा होने से पहले ही निकल लिए।

Next9News

Check Also

Upendra-Kushwaha-to-Meet-BJP-Chief-Amit-Shah-on-Monday-Over-Seat-Sharing-in-Bihar-NDA

उपेंद्र को मनाने की कोशिश में शाह, तेजस्वी से बढ़ी नजदीकियां

नयी दिल्ली। मिशन 2019 के लिये बीजेपी अपने पुराने साथियों को हर हाल साथ में …