Breaking News
Home / आज का वायरल / कभी लोकल ट्रेनों में टॉफियां बेचा करता था ये बाॉलिवुड सितारा

कभी लोकल ट्रेनों में टॉफियां बेचा करता था ये बाॉलिवुड सितारा

हिंदी फिल्म जगत में ‘किंग ऑफ कॉमेडी’ के नाम से जिस अभिनेता को पहचाना जाता है। जिन्होंने अपने खास अंदाज से दर्शकों को हंसाया और गुदगुदाया, वो कोई और नहीं बल्कि हास्य अभिनेता महमूद अली थे। उनके जन्मदिन पर आज हम आपको अपनी इस रिपोर्ट में उनके फिल्मी और निजी जीवन से जुड़ी कुछ खास बाते बताने जा रहे हैं।

29 सिंतबर 1933 में मुंबई में जन्में महमूद अली का अभिनेता बनने तक का सफर काफी कठिनाइयों भरा रहा। रिपोर्ट्स में बताया जाता है कि महमूद अली के घर के आर्थिक हालात कुछ ज्यादा बेहतर नहीं थे। उनके पिता मुमताज अली बॉम्बे टॉकीज स्टूडियो में काम किया करते थे, और शायद यही कारण है कि उन्होंने अपने बचपन में लोकल ट्रेनों में टॉफियां बेची यहां तक कि महमूद ने बड़े होने के बाद बतौर ड्राइवर भी काम किया। हालांकि इस बात में कोई शक नहीं कि महमूद को बचपन के दिनों से ही एक्टिंग का शौंक था और वे बड़े होकर एक्टर बनना चाहते थे।

रिपोर्ट्स में तो ये बात भी सामने आई है कि उनकी किस्मत का सितारा उस वक्त चमका जब उन्हें साल 1943 में आई फिल्म किस्मत में अशोक कुमार के बचपन का किरदार निभाने का अवसर प्राप्त हुआ.. आपको ये जानकर हैरानी होगी कि महमूद को ये तक सुनना पड़ा कि ‘ना तो वह अभिनय कर सकते हैं और ना ही अभिनेता बन सकते हैं।’ लेकिन बाद में लोगों की राय बदली और महमूद को ‘मैं सुंदर हूं’ जैसी फिल्म में बतौर एक्टर काम भी मिला।

जानकारी दे दें कि ‘भूत बंगला’, ‘पड़ोसन’, ‘बॉम्बे टू गोवा’, ‘गुमनाम’, ‘कुंवारा बाप’ जैसी फिल्मों के जरिए महमूद ने खुद को स्थापित कर दिया। उन्होंने ‘प्यार ही प्यार’, ‘ससुराल’, ‘लव इन टोक्यो’ और ‘जिद्दी’ जैसी हिट फिल्में भी हिंदी सिनेमा को दी।

बता दें कि महमूद को उनके करियर में तीन बार फिल्मफेयर पुरस्कार से सम्मानित किया गया.. लगभग 300 फिल्मों में काम करने वाले महमूद ने 23 जुलाई, 2004 को इस दुनिया से हमेशा के लिए अलविदा गए… और हमारे बीच बस रह गई उनकी यादें

 

 

Check Also

ऐश्वर्या राय की बेबी बंप के साथ फोटो आई नजर, फोटो वायरल

एक्ट्रेस ऐश्वर्या राय बच्चन बॉलीवुड से लेकर हॉलीवुड तक फेमस है। उनकी एक झलक पाने …