Home / खुला खत / टीवी पर क्या यही देखना चाहते हैं दर्शक
bigg-boss-11

टीवी पर क्या यही देखना चाहते हैं दर्शक

आजकल मनोरंजन के नाम पर टीवी चैनल कुछ भी दिखाने से नहीं चूक रहे हैं। उन्हें सिर्फ अपनी टीआरपी से मतलब होता है। इसके लिये वो सेलिब्रिटीज को मुंहमांगी रकम भी देते हैं। ये नामचीन कलाकार येनकेन प्रकारेण चैनल की टीआरपी लाने में कुछ भी करने से नहीं चूक रहे हैं। चैनल के प्रोड्यूसर विदेशी चैनलों पर सफल प्रसारित कार्यक्रमों का हिन्दी वर्जन तैयार करने की रेस में लगे है। आजकल ऐसे कार्यक्रमों की भरमार होती जा रही है जो युवाओं को टारगेट कर के बनाये जाते हैं। कुछ प्रोग्राम तो यूथ को संगीत, डांस, सिंगिंग और एडवेंचर को बेस बना कर अपनी टीआरपी बनाने में सफल होते हैं। भारत में बिग ब्रदर की सफलता के बाद कलर्स चैनल पर बिग बॉस का प्रसारण शुरू किया गया। नये फार्मेट का प्रोग्राम भारत में काफी सफल रहा। आज तक 11वां संस्करण प्रसारित किया जा रहा है। बिग बॉस के पहले संस्करण से 11वें संस्करण में काफी बदलाव आ चुका है। मनोरंजन के नाम पर और टीआरपी के लिये कुछ भी दिखा रहे हैं। बेडसीन से इंटिमेसी तक के फुटेज चैनल दिखाने में गुरेज नहीं कर रहा है।

2008 में कलर्स चैनल की शुरुआत हुई। एक तरफ इस चैनल ने बालिका वघू जैसा फैमिली शो दर्शकों को दिया। इस शो ने कलर्स चैनल को लोकप्रियता की बुलंदियों पर पहुंचाने में अहम् भूमिका निभाई। वहीं दूसरी ओर विदेश में सफल बिग ब्रदर शो की तर्ज पर बना बिग बॉस के दूसरे संस्करण का प्रसारण किया। इससे पहले इस शो को सोनी चैनल पर प्रसारित किया था। अभिनेता अरशद वारसी ने होस्ट किया था। इसमें आइटम गर्ल राखी सावंत ने भी भाग लिया था। विनर की शील्ड अभिनेता राहुल राय बने। इस शो को अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी ने होस्ट किया था। इस एडिशन में संभावना सेठ, पायल रोहतगी, कांग्रेस सांसद राहुल महाजन, राजा चौधरी और मोनिका बेदी जैसे ऐसे लोग भाग ले रहे थे जो या तो किसी विवाद में थे या फिल्म इंडस्ट्री में अपना मुकाम तलाश रहे थे। इस शो में यूपी के प्रवेश राना बिग बॉस के विनर रहे थे। इस शो की टीआरपी औसत रही थी।

तीसरे सीजन के होस्ट बने अमिताभ बच्चन उर्फ बिग बने। लेकिन बिग बॉस के चौथे सीजन में कलर्स ने होस्ट की जिम्मेदारी सलमान खान को सौंपी। सलमान ने शो की टीआरपी को बूम कर दिया। इसके बाद से सलमान खान रेग्यूलर कर रहे हैं। एक सीजन में सलमान ने अपने साथ संजू बाबा को भी रखा लेकिन संजू बाबा शो को अपने दम पर चलाने में सफल नहीं हुए। आखिरकार चैनल ने सलमान को वापस बुलाया। तब से बिग बॉस मतलब सलमान खान माना जाता है। लेकिन वर्तमान में जो हालात हैं उससे जाहिर हो रहा है कि दर्शकों पर अब सलमान का जादू फीका पड़ता जा रहा है।

भारत में अभी वो हालात नहीं हैं जहां नेशनल टीवी चैनल पर मनोरंजन के नाम पर अश्लीलता परोसी जा सके। चैनलों पर प्रसारित होने कार्यक्रमों पर निगरानी रखने वाली संस्थाएं कितनी सक्रिय हैं ये कार्यक्रम इस बात की बानगी है। पहले बिग बॉस का प्रसारण प्राइम टाइम पर किया जाता लेकिन अश्लीलता बढ़ने के कारण 11वें सस्करण का प्रसारण सोमवार से शुक्रवार को रात साढ़े दस से प्रसारित किया जाता है। शनिवार और इतवार को बिग बॉस का प्रसारण रात नौ बजे किया जाता है। पिछले साल इस कार्यक्रम में अश्लीलता की भरमार देखते हुए यह निर्णय लिया गया कि नौ बजे तक लोग अपने परिवार के साथ टीवी देखते हैं। उस समय घर के सदस्यों में बच्चे भी टीवी देखते है। इंटिमेसी और बेडसीन देख कर बच्चों पर बुरा असर पड़ता है।

भारत में अभी शायद इतनी एडवांसनेस नहीं आयी है कि ऐसे शो को परिवार के साथ बैठ कर नहीं देख सकते हैं। यही वजह है कि लगातार इस शो की व्यूअर शिप में काफी गिरावट देखी जा रही है। टीआरपी बढ़ाने के लिये होस्ट अनेक प्रकार की तिकड़में लगा रहे हैं। लेकिन शो की टीआरपी बढ़ाने में सफल नहीं हो पा रहे हैं। 10 सीजन तक सलमान केवल शनिवार और रविवार को ही होस्ट करते थे। लेकिन 11वे संस्करण में सातों दिन सलमान का इस बात की गवाह है कि शो की टीआरपी लगातार कमी आ रही है। जाहिर सी बात है कि प्रोडक्शन हाउस बिग बॉस में मोटी रकम लगाते हैं। अगर रेवेन्यू जेनरेट नहीं होगी तो उनके लिये भी समस्या हो सकती है।

विनय गोयल के मन की बात

Next9news

Check Also

diwali

सुप्रीम कोर्ट के आदेश को जनता का तमाचा

विनय गोयल के विचार नयी दिल्ली। आजतक हम लोगों को यह भ्रम था कि उच्चतम …