Breaking News
Home / देश / रहस्यमयी लोगों का सच जो आज भी हमारे आस-पास मौजूद हैं…

रहस्यमयी लोगों का सच जो आज भी हमारे आस-पास मौजूद हैं…

आज हम उन लोगों की जानकारी आपको देगें जो सदियों से हमारे और आप के बीच मौजूद हैं

परशुराम- भगवान शिव ने भगवान राम को फरसा दिया था जिसके बाद उनका नाम परशुराम हो गया था। बता दे परशुराम का जन्म भगवान राम के पहले हुआ मगर परशुराम चिरंजीवी होने के कारण भगवान राम के समय में मौजूद थे। चिरंजीवी का मतलब हैं बहुत दिनों तक जीवित रहने वाला।

राजा बलि- भगवान ने बाह्मण का रूप धारण किया ताकि राजा बलि के घमंड को चकनाचूर कर सके। भगवान ने बाह्मण का रूप धारण कर राजा बलि से तीन पग जमीन दान में मांग ली। राजा बलि ने बाह्मण को बोला कि आपकी जहां इच्छा हो वहा तीन पग जमीन नाप ले। भगवान ने बाह्मण का रूप त्यागकर अपना विराट रूप धारण किया और दो पग में तीनों लोकों को नाप लिया। इसके बाद एक पग जमीन देना अभी बाकी था। राजा बलि असमंजस में पड़ गए। जिसके बाद भगवान ने तीसरा पग राजा बलि के सर पर रख दिया और राजा बलि को पाताल लोक भेज दिया जिसके बाद भगवान राजा बलि से प्रसन्न हो गए और राजा बलि के द्वारपाल बन गए।

हनुमान- हनुमान को अमरता का वरदान प्राप्त हैं जिसकी वजह से त्रेतायुग के हनुमान द्वापर युग में देखे गए ।

विभीषण- रावण के छोटे भाई थे विभीषण। विभीषण ने रावण को समझाया था कि सीता माता को वापस भेज भगवान राम से क्षमा मांग ले। जिसके बाद रावण ने विभीषण को लंका से निकाल दिया और विभीषण ने अधर्म के अंत के लिए सत्कर्म का रास्ता अपना लिया।

ऋषि व्यास- जिन्हें हम सब वेद व्यास के नाम से जानते हैं। जिन्होंने चार वेद, 18 पुराण, महाभारत और श्री मत् भगवतगीता की रचना की थी। वेद व्यास सत्यवती के पुत्र थे। माना जाता हैं कि वेद व्यास आज भी जीवित हैं।

अश्वत्थामा- अश्वत्थामा गुरू दोणाचार्य के पुत्र हैं। भगवान श्री कृष्ण ने अश्वत्थामा के पापों को देखते हुए उसके माथे से मणि निकाल लिया था और अश्वत्थामा को वरदान था कि वो कभी नही मर सकता हैं। जिसके बाद से वो भटक रहा हैं।

युगों-युगों से भटक रहे ये लोग आज भी हमारे आस-पास मौजूद  हैं।

इससे जुड़ी वीडियो देखने के लिए यहा पर क्लिक करें।

Next9News

Check Also

पंजाब में कांग्रेस के अभी भी असली सरदार है मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह

पंजाब कांग्रेस का एक वर्ग कैप्टन अमरिंदर सिंह को चूका हुआ मान रहा है। इनकी …