Breaking News
Home / देश / राहुल गांधी और भाजपा की राजनीति को लेकर ओम थानवी का प्रहार
om-thanvi-journalist

राहुल गांधी और भाजपा की राजनीति को लेकर ओम थानवी का प्रहार

नई दिल्ली: सर्जिकल स्ट्राइक के बाद देश में मांगे जा सबूतों पर सियासत तेज होती नजर आ रही हैं। सर्जिकल स्ट्राइक पर सवाल खड़े करते हुए केजरीवाल नें पीएम मोदी को बधाई देते-देते सबूत तो मांग लिए मगर उन्हें आलोचनाओं का शिकार भी होना पड़ा। ऐसे में भाजपा खुद सर्जिकल स्ट्राइक के खिलाफ विशुद्ध राजनीति करती नजर आ रही हैं। भाजपा द्वारा लखनऊ, आगरा, मुजफ्फरनगर आदि शहरो में बड़े-बड़े होर्डिग औऱ पोस्टर सर्जिकल स्ट्राइक को लेकर टागें जा रहे हैं उन होर्डिंग में देश की रक्षा करने वाले सैनिक हीरों नही बल्कि पीएम मोदी जो केंद्र में है वो राम हैं, नवाज शरीफ रावण और केजरीवाल विभीषण।

इन बातों का जिक्र वरिष्ठ पत्रकार ओम थानवीं ने अपने फेसबुक वॉल पर किया हैं। वही ओम थानवी ने ट्वीट कर राहुल गांधी के खून की दलाली वाले बयान पर कटाक्ष करते हुए लिखा कि, राहुल और सोनिया गांधी का भाषण आखिर लिखता कौन हैं?

ओम थानवी ने यूपी की गलियारों में हुए रक्षामंत्री पर्रिकर और गृहमंत्री राजनाथ सिंह के स्वागत में हुए समारोह का जिक्र करते हुए लिखा कि आगरा कि गलियों तक में पीएम मोदी औऱ पर्रिकर के शौर्य प्रदर्शन के लिए शत-शत नमन वाले पोस्टर लगे हैं।

army

इसके साथ ही उन्होंने राहुल गांधी के पीएम मोदी पर दिए बयान में दलाली जैसे शब्दों का जिक्र करते हुए कहा कि राहुल गांधी अपनी भाषा में ही फंस गए। दलाली अच्छा शब्द तो नही हैं मगर बेहतर भाषा में इसे क्या कहा जाना चाहिए? इसके आगे ओम थानवी ने लिखा कि फौजी कार्रवाई की चुनावी ब्रांडिंग और मार्केटिंग! नही क्या?

 ओम थानवी इतने में ही नहीं रुके वो आगे लिखते हैं कि हर राजनैतिक दल को भाजपा की इस मार्केटिंग को मुद्द बनाकर बेनक़ाब करना चाहिए। सेना की कार्रवाई का राजनैतिक लाभ इंदिरो को मिला होगा, अटल बिहारी वाजपेयी को मिला होगा मगर चुनावी दौर में सैनिकों के शौर्य को अपना शौर्य बताकर वोट खीचने का काम पहली दफा हो रहा हैं। सरेआम।

दरअसल वरिष्ठ पत्रकार ओम थानवी ने भाजपा की राजनीति पर लिखते हुए इसे वोट बैंक की राजनीति का नाम दिया हैं। यह सोचने वाली बात हैं कि सैंनिकों के शौर्य को कोई भी राजनैतिक पार्टी अपना कैसे बता सकती हैं। यह देश की सुरक्षा व्यवस्था पर उठाया गया सेना का कदम था।

Next9News

Check Also

Upendra-Kushwaha-to-Meet-BJP-Chief-Amit-Shah-on-Monday-Over-Seat-Sharing-in-Bihar-NDA

उपेंद्र को मनाने की कोशिश में शाह, तेजस्वी से बढ़ी नजदीकियां

नयी दिल्ली। मिशन 2019 के लिये बीजेपी अपने पुराने साथियों को हर हाल साथ में …