Breaking News
Home / देश / मानव संसाधन विकास मंत्रालय और यूनिसेफ का शिक्षा मेला आयोजित
sanjiv

मानव संसाधन विकास मंत्रालय और यूनिसेफ का शिक्षा मेला आयोजित

नयी दिल्ली। यूनिसेफ इंडिया ने एमएचआरडी की साझेदारी में आज एक ‘ शिक्षा मेला-एजुकेशन ओपन डे’ का आयोजन किया। यह आयोजन समग्र और समतामूलक बढ़िया शिक्षा की कहानियों को दिखाने के लिया किया गया, जिसे 17 भारतीय राज्यों में समन्वित कार्यप्रणाली के जरिए हासिल किया गया।
एक अभिनव हाट,जिसमें प्रत्येक बच्चे के जीवन चक्र के दौरान शिक्षा से जुड़े मील के पत्थरों का रचानात्मक प्रदर्शन किया गया। इसके साथ ही सशक्त वृतांत का देश के विविध हिस्सों में सफल रणनीतियों के लिए प्रयोग किया गया। इसमें प्रारभिंक बाल्यावस्था शिक्षा के जरिए कैसे बच्चों को स्कूल भेजने की तैयारी को मजबूती मिली, रणनीतिक पहल जिनके जरिए स्कूल से बाहर बच्चों को वापस स्कूल लाया गया और प्रेरक कार्यक्रम जैसे कि विकास के लिए खेल और मीना मंच,जिन्होंने बच्चों को स्कूल में टिके रहने में मदद की शमिल है।
भारत में यूनिसेफ प्रतिनिधि डा.यासमिन अली हक ने इस अवसर पर कहा कि भारत सरकार की सभी बच्चो को स्कूलों तक ले जाने व सिखाने वाली कोशिशों को गति प्रदान करने वाली प्रतिबद्वता की सराहनीय ‘जब से शिक्षा का अधिकार कानून लागू हुआ है, व्यवस्थित तैयारियों वाले क्षेत्रों में काफी प्रगति हुई है, पहुंच व बच्चों के नामांकन में सुधार हुआ है, इन्फा्रस्ट्रक्चर खास तौर पर स्कूलों में सैनिटेशन की सुविधाओं को मुहैया कराने,अध्यापकों की भत्र्ती और अप्रशिक्षित अध्यापकों को प्रशिक्षण देने में सुधार हुआ है। बच्चे वास्तव में प्रारभिंक कक्षाओं में ठीक प्रदर्शन कर रहे हैं परंतु इन नतीजों को उच्चतर कक्षाओं में तब्दील करने और यह सुनिश्चित करने की जरूरत है कि जिन अपेक्षित कौशल का निर्माण हुआ है,उनका सुचारू रूप से आजीविका के लिए इस्तेमाल हो सके।
यूनिसेफ इंडिया,शिक्षा प्रमुख यूफ्रेटस गोबिना ने इस अवसर पर फील्ड से ऊंचे मानदंडों वाले उदाहरणों पर फोकस रखते हुए एक पैनल चर्चा के संचालन में मदद की। पैनल में हिस्सा लेने वालों ने ऊंचे मानदंडों के लिए चुनौतियों व समाधानों पर रोशनी डालते हुए बढ़िया ऊंचे मानदंडों के कुछ उदाहरणों के बारे में विचार-विमर्श किया। स्कूल शिक्षा और साक्षरता विभाग सचिव,एमएचआरडी, अनिल स्वरूप ने अपने मुख्य भाषण में शिक्षा के डिजिटलीकरण की जरूरत पर जोर दिया।
इस अवसर पर एक डाटा विजुलाइजेशन ऐप लांच किया गया। यह एप देश की शिक्षा संबंधी परिदृश्य में विश्लेषण संबंधी जटिलताओं का प्रयोक्ता हितैषी और विजुएल प्रतिनिधित्व मुहैया कराता है।

विनय गोयल की रिपोर्ट

Next9news

Check Also

shuzat

शुजात बुखारी को किसने मारा ओर क्यों!

नयी दिल्ली।अचानक कश्मीर से खबर आयी कि पत्रकार शुजात बुखारी की सरेशाम नृशस हत्या कर …