Breaking News
Home / देश / कुलभूषण जाधव के परिजनों के साथ पाक की नापाक हरकत
kulbhushan-jadhav

कुलभूषण जाधव के परिजनों के साथ पाक की नापाक हरकत

नयी दिल्ली। पाक की हिरासत में पूर्व नेवी के अधिकारी कुलभूषण जाधव की पत्नी और मां के साथ ऐसी शर्मनाक हरकतें की जिसकी जितनी भी निंदा की जाये वो कम है। भारत सरकार को चाहिये कि इस मामले को यूएनओ में प्रमुखता से उठाये। देश की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने पुरजोर तरीके से पाकिस्तान सरकार व अधिकारियों की निंदा करते हुए धिक्कारा। पाकिस्तान में नजरबंद कुलभूषण से मिलने गयीं उनकी मां व पत्नी के साथ बर्बरता की सारी हदें पार करते हुए उनके सुहाग की निशानी मंगलसूत्र और भारतीय परिधानों को उतरवाया और मजबूर किया कि वो पाकिस्तानी शलवार और कुर्ते पहनें। भारतीय सुहागिनों के लिये पति के जिंदा रहते हुए मंगलसूत्र को किसी भी हालत में सुहाग की निशानी नहीं उतारी जाती है। पाक की इस नापाक हरकत से पूरे देश मंे उत्तेजना भरा माहौल है। भारत सरकार को पाकिस्तान के मामले पर गंभीरता से सोचना होगा। 56 इंच के सीने वाले पीएम व उनकी सरकार को पाक के खिलाफ इस नापाक हरकत का मुंहतोड़ जवाब देना होगा। पाकिस्तान की ओर आये दिन घुसपैठ और गोलीबारी से हमारे सेना के जवान और अधिकारी शहीद हो रहे हैं। हमारे नेता व केन्द्र सरकार ट्विट कर इतिश्री कर लेते हैं। उन्हें परिजनों के दुख व समस्याओं का एहसास नहीं होता हैं क्योंकि इन नेताओं के बच्चे सेना में भर्ती नहीं होते उनके बच्चे या तो जनप्रतिनिधि बनते हैं या बिजनेसमैन।

पाक अधिकारियों ने कुलभूषण की मां व पत्नी के कपड़े और मंगलसूत्र ही नहीं उतरवाये बल्कि उनके जूते भी उतरवाये गये। मां व पत्नी को इस बात के लिये विवश किया गया कि वो हिन्दी में बात करें। मां ने जब मराठी में  बात करना चाहा तो उनका इंटरकाम भी बंद कर दिया गया। पाकिस्तान की अमानवीय व्यवहार से पूरा देश आहत किया है। इस पर भी पाक अधिकारियों का मन नहीं भरा तो उन्होंने पत्नी व मां को पाक मीडिया के हवाले कर दिया गया। पाक मीडिया ने बेटे को अपराधियों की रिश्तेदार मान कर अभद्र टिप्पणी की। उनसे बेहूदे सवाल किये। मीडिया के सवालों से जाधव की मां व पत्नी को बार बार अपमानित किया गया। यह अपमान केवल जाधव की मां व पत्नी की अपमान नहीं बल्कि भारत देश का अपमान है। इसे भारत सरकार और खासतौर पीएम मोदी को प्राथमिकता पर सख्ती से निपटना होगा। याद हो जब मोदी पीएम नहीं थे चुनाव के दौरान बार बार अपने 56 इंच के सीने के बात करते हुए पाक को सबक सिखाने की लच्छेदार बाते किया करते थे तो जनता उनका जोरदार तालियों से स्वागत करते थे। लेकिन साढ़े तीन साल के कार्यकाल में मोदी ने ऐसा कुछ भी नहीं किया जिससे लगे कि वो वही मोदी हैं जो पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब देने की बाते किया करते थे।

आज हालात यह हैं कि सीमावर्ती प्रदेशों से पाक ने घुसपैठ और गोलीबारी जारी रखी है। सरकार की विदेश नीतियां भी उतनी प्रभावी नहीं हैं। आज नेपाल, बाग्लादेश, चीन और म्यांमार से भी संबंध मधुर नहीं है। जब से मोदी पीएम बने हैं लगभग 40 देशों में दौरे कर चुके है। न केवल दौरे किये बल्कि कुछ देशों को भारत सरकार ने आर्थिक मदद भी की है। इन हालातों को देखते हुए नहीं लगता है कि हमारे पड़ोसी देशों से रिश्ते मधुर हैं उस पर तुर्रा यह कि मोदी सरकार दिवास्वप्न में खोई हुई है।

विनय गोयल की रिपोर्ट

Next9news

Check Also

jijaji

‘जीजाजी छत पर हैं’ में पंचम के लिये इलायची का प्यार बना मुसीबत

नयी दिल्ली। सोनी सब का नया शो ‘जीजाजी छत पर हैं’ के साथ शुरू हो …