Breaking News
Home / देश / चुनाव स्पेशल / भाजपा की शरण में रवि किशन भी
-ravi-kishan-manoj-tiwari

भाजपा की शरण में रवि किशन भी

नई दिल्ली: भारतीय फिल्मी कलाकारों का राजनीति में उतरने का सिलसिला काफी समय पहले शुरू हुआ था। आज भी यह थमा नहीं है। फिल्मों में कुछ खास न कर पाने पर वो राजनीति की ओर बढ़ जाते है। भोजपुरी फिल्मी कलाकारों में राजनीति का चलन काफी तेजी से बढ़ रहा है।

भोजपुरी फिल्मों के गायक व कलाकार मनोज तिवारी ने लगभग एक दशक पहले ही राजनीति में आने का प्रयास किया था। तब उन्होंने समाजवादी पार्टी का दामन थामा था। सपा के टिकट पर चुनाव भी लड़ा लेकिन उनकी जनप्रतिनिधि बनने की मंशा पूरी न हो सकी। उस वक्त मनोज तिवारी का इतना स्टारडम नहीं था। पूर्वांचल में ही जाने जाते थे। वैसे भी भोजपुरी फिल्मों को बॉलीवुड में कमतर समझा माना जाता है।
राजनीति में सफल न होने पर मनोज तिवारी ने फिल्मी दुनिया की ओर रुख कर लिया। लेकिन 2014 में मोदी सरकार बनने के पहले उन्होंने और राजू श्रीवास्तव ने भाजपा का दामन थाम लिया। तिवारी को भाजपा ने लोकसभा का टिकट पाने में सफल रहे और मोदी लहर के चलते दिल्ली से सांसद बन गये। मनोज तिवारी योग गुरु रामदेव के करीबियों में जाने जाते हैं।

इसका फायदा उन्हें मिलने में मिला। भाजपा ने मनोज तिवारी की पूर्वांचलियों में लोकप्रियता का फायदा उठाने के लिये 2017 में दिल्ली भाजपा का अध्यक्ष बना दिया। 23 अप्रैल को दिल्ली एमसीडी के चुनाव में मनोज तिवारी की क्षमता और प्रतिभा दोनों की परीक्षा है। अगर मनोज तिवारी भाजपा की एमसीडी पर पकड़ कायम रखते हैं तो पार्टी में उनकी साख बनी रहेगी अन्यथा उन्हें भी सतीश उपाध्याय की तरह शंटिंग में डाल दिया जायेगा।
भोजपुरी फिल्मों चर्चित कलाकार रवि किशन की लोकप्रियता मनोज से कहीं ज्यादा है। पिछले लोकसभा चुनाव में रवि ने कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ा लेकिन जीत हासिल नहीं हुई।

मनोज तिवारी की भाजपा में बढ़ती भागीदारी से रवि का मन भी अब भाजपा की ओर लगने लगा है। यही वजह है कि ठीक एमसीडी चुनाव के पहले रवि किशन ने हाथ का साथ छोड़ कमल को थाम लिया है। भाजपा भी उनका इस्तेमाल पूर्वांचली मतों को अपने पक्ष में कराने कर रही है। रैलियों और जनसभाओं में उमड़ी भीड़ को मनोज और रवि किशन वोटों में कितना बदल पाते हैं यह आने वाला चुनाव परिणाम बतायेगा।

विनय गोयल की रिपोर्ट

Next9news

Check Also

Upendra-Kushwaha-to-Meet-BJP-Chief-Amit-Shah-on-Monday-Over-Seat-Sharing-in-Bihar-NDA

उपेंद्र को मनाने की कोशिश में शाह, तेजस्वी से बढ़ी नजदीकियां

नयी दिल्ली। मिशन 2019 के लिये बीजेपी अपने पुराने साथियों को हर हाल साथ में …