Home / देश / नितीश के गले की फांस बने शरद यादव
sharad

नितीश के गले की फांस बने शरद यादव

नयी दिल्ली। अभी बिहार में नयी सरकार के गठन को दो ही दिन हुए हैं। उनके समर्थक दलों में असंतोष जाहिर होने लगा है। हम और राष्ट्रीय लोक समता पार्टी ने मंत्रिमंडल में जगह न मिलने से उनके सुर बिगड़ने लगे है। इसके साथ ही जनता दल यू के एक दिग्गज नेता शरद यादव भी इस नयी सरकार के गठन से नाखुश हैं। शरद यादव ने नयी सरकार के शपथ ग्रहण समारोह में भी हिस्सा नहीं लिया था।

सरकार बनने के बाद उन्होंने अन्य नाराज सांसदों के साथ बैठक भी की थी। बैठक में किस बात पर चर्चा हुई इसका तो खुलासा नहीं हुआ। लेकिन इस बात को जरूर बल मिल रहा है कि यादव भाजपा के साथ मिलकर सरकार बनाने के खिलाफ हैं। शरद यादव और पार्टी के सांसदों की नाराजगी नितीश कुमार के लिये परेशानी का कारण हो सकते हैं। शरद यादव से लालू भी संपर्क बनाये हुए हैं।

ये भी चर्चा में है कि शरद यादव को मनाने के लिये वित्त मंत्री अरुण जेटली ने मुलाकात की। इतना ही नहीं उन्हें केन्द्र में रक्षा मंत्री पद का ऑफर का भी वादा किया। लेकिन उन्होंने मंत्री पद लेने से साफ मना कर दिया और कहा कि उन्हें एनडीए सरकार में किसी पद का लालच नहीं है। उन्होंने इस बात के संकेत भी दे दिये कि वो सांप्रदायिक ताकतों के खिलाफ आन्दोलन चलाने के लिये देश भर में घूम घूम कर भाजपा के खिलाफ प्रचार करेंगे।

उनका मानना है कि बिहार में जनादेश का अपहरण ही नहीं उसके साथ दुष्कर्म और उसकी हत्या की गयी है। जनता के भरोसे का खून हुआ है। वो अपने समर्थकों के साथ भाजपा के साथ कभी समझौता नहीं करेंगे। उनके साथ पार्टी के सभी सांसद भी खड़े हैं। राज्यसभा सांसद अली अनवर और वीरेंद्र कुमार ने इस नये गठन से बनी सरकार का विरोध जताया है। जदयू की केरल यूनिट ने पार्टी से अपने आप को अलग करते हुए संबंध तोड़ लिये है।
विनय गोयल की रिपोर्ट

Next9news

Check Also

lenovo_k8_plus_

एडवांस तकनीकी से लैस लेनोवो के 8 प्लस की बिक्री शुरू

नयी दिल्ली। एडवांस तकनीकी से लैस लेनोवो के 8 प्लस के चाहने वालों का सपना …