Breaking News
Home / गीत-गज़ल / ऐसे उजड़ा चमन अपना अमन के खाक हो गया मकां बनते-बनते
sad song

ऐसे उजड़ा चमन अपना अमन के खाक हो गया मकां बनते-बनते

तुम्हारे बारे में सोचते-सोचते

के सो गये हम रोते-रोते

चरागों से जीत गया मैं

वो बुझ गये संग जलते-जलते

अरमानों की आखिरी उम्मीद भी

आज खत्म हो गई साथ चलते-चलते

लड़खड़ाते हुए उठा तो था लेकिन

गिर गया मैं फिर संभलते संभलते

ऐसे उजड़ा चमन अपना अमन

के खाक हो गया मकां बनते-बनते

अमन का ख्याल…

Check Also

sad love

… अब खुशी है न कोई दर्द रुलाने वाला

जो गुजारी न जा सकी हमसे, हमने वो जिंदगी गुजारी है। अब खुशी है न …