Breaking News
Home / देश / व्यापम घोटाला: सुप्रीम कोर्ट का फैसला 634 एमबीबीएस छात्रों का दाखिला रद्द
supreme court

व्यापम घोटाला: सुप्रीम कोर्ट का फैसला 634 एमबीबीएस छात्रों का दाखिला रद्द

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने एमबीबीएस में गलत तरीके से दाखिला पाने वाले मध्यप्रदेश के 634 विद्यार्थियों का दाखिला रद्द कर दिया हैं। बता दे कि सुप्रीम कोर्ट का ये आदेश 2008-2012 के बीच प्रवेश पाने वाले विदयार्थियों पर लागू होगा। इन विद्यार्थियों का दाखिला व्यापम के जरिए हुआ था।

इसे भी पढ़े : आखिर क्या हैं लोढ़ा समिति की सिफारिशें, सुप्रीम कोर्ट ने अनुराग ठाकुर को हटाया

दरअसल 634 विद्यार्थियों का दाखिला इसलिए रद्द किया गया हैं कि क्योंकि इन विद्यार्थियों ने नकल कराने वाले गिरोह की मदद ली थी, जिसके बाद इसका खुलासा होने के बाद व्यापम ने एडमिशन रद्द कर दिया था और मध्यप्रदेश हाईकोर्ट ने व्यापाम के इस फैसले को बरकरार रखा था।

जिसके बाद पिछले साल सुप्रीम कोर्ट ने भी माना था कि विद्यार्थियों ने नकल की थी मगर सजा को लेकर 2 जजों में मतभेद था। बता दे कि जस्टिस चेलमेश्वर ने कहा था कि ये विद्यार्थी पढ़ाई पूरी कर चुके हैं, इसलिए इनके ज्ञान का उपयोग किया जाना चाहिए। इन विद्यार्थियों से 5 साल तक सेना या ग्रामीण इलाकों में सेवा ली जाए और इसके बाद सामान्य रूप से काम करने दिया जाए।

वहीं बेंच के दूसरे जज जस्टिस अभय सप्रे ने कहा था कि इन विद्यार्थियों से कोई रियायत करना गलत बात को शह देना होगा। जजों के मतभेद के बाद मामला 3 जजों की बेंच के पास भेजा गया और आज चीफ जस्टिस जे एस खेहर, जस्टिस अरुण मिश्रा और जस्टिस कुरियन जोसफ की बेंच ने फैसला दिया।

इसे भी पढ़े : आसाराम की जमानत याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने किया खारिजव

तीन जजों की बेंच ने माना कि नकल के जरिए प्रवेश परीक्षा पास करने वाले विद्यार्थियों को डॉक्टर बनने का अधिकार नहीं हैं। जिसके बाद अब 634 विद्यार्थियों का दाखिला रद्द किया जाएगा।

Next9News

Check Also

Upendra-Kushwaha-to-Meet-BJP-Chief-Amit-Shah-on-Monday-Over-Seat-Sharing-in-Bihar-NDA

उपेंद्र को मनाने की कोशिश में शाह, तेजस्वी से बढ़ी नजदीकियां

नयी दिल्ली। मिशन 2019 के लिये बीजेपी अपने पुराने साथियों को हर हाल साथ में …