Breaking News
Home / देश / नवभारत टाइम्स का सर्वे पूरी तरह भ्रामक है-  नीरेंद्र नागर
nbt survey

नवभारत टाइम्स का सर्वे पूरी तरह भ्रामक है-  नीरेंद्र नागर

नयी दिल्ली। 26 मई को नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री के तौर पर अपने चार वर्ष पूरे कर लिए हैं। इस मौके पर टाइम्स ग्रुप ने ऑनलाइन मेगा पोल कराया, जिसके नतीजे बताते हैं कि नरेंद्र मोदी अभी भी देश के सबसे ज्यादा लोकप्रिय नेता बने हुए हैं। यह ऑनलाइन सर्वे टाइम्स ग्रुप की 9 भाषाओं की न्यूज साइट्स पर 23 से 25 मई के बीच कराया गया। इस सर्वे को लेकर नवभारत टाइम्स डॉट कॉम के पूर्व संपादक नीरेंद्र नागर ने सवाल खड़े किए हैं।

नीरेंद्र नागर का कहना है कि नवभारत टाइम्स का सर्वे पूरी तरह भ्रामक है और यह बात जैसे मैं जानता हूं, वैसे ही वहां के संपादक भी जानते हैं। उन्होंने आगे लिखा कि अपने संपादन काल में मैंने पाया था कि  नवभारत टाइम्स वेबसाइट पर आप जब भी मोदी या बीजेपी  से जुड़ा कोई पोल कराएंगे, 70 से 80 प्रतिशत वोट बीजेपी-समर्थक विकल्प के पक्ष में होंगे। उसकी वजह यह है कि वेबसाइट पर आने वाले अधिकतर पाठक मोदी-समर्थक हैं।

मिसाल के तौर पर नीरेंद्र नागर ने बताया कि ताजा दैनिक पोल ले लीजिए जिसमें पूछा गया है कि क्या जेडीएस-कांग्रेस सरकार पांच साल तक चलेगी और जवाब में 78 प्रतिशत ने कहा है- नहीं चलेगी। बाकी पोल्स में भी कुछ-कुछ ऐसा ही परिणाम आता है। जब हाल में पूछा गया कि क्या येदियुरप्पा को सरकार बनाने का न्योता देने का राज्यपाल का फैसला सही है तो 67 प्रतिशत ने हां में जवाब दिया जबकि दुनिया को मालूम था कि बीजेपी  के पास केवल 104 विधायक हैं और बहुमत के लिए उसे विपक्षी विधायक खरीदने होंगे।

उन्होंने आगे लिखा कि कभी-कभी तो मुझे लगता था कि यदि कभी मोदी किसी को गोली मार दें और हम पोल कराते कि क्या मोदीजी ने गोली मारकर सही किया है तो शायद तीन-चौथाई पाठक यही कहते कि हां, सही किया है। स्पष्ट है कि ऐसी वेबसाइट पर आप पूछेंगे कि मोदी सरकार का काम कैसा रहा है तो परिणाम वही आएगा जो आया है। चूंकि पोल में बाकी भाषाओं की वेबसाइटें भी शामिल है, इसीलिए यह आंकड़ा 73 का आया। यदि केवल नवभारत टाइम्स पर कराया गया होता, तो आंकड़ा 80 के आसपास होता। सोचिए, यदि देश में मोदी को 73 प्रतिशत लोगों का समर्थन होता तो कर्नाटक में बीजेपी  को उससे आधे लोगों का वोट न मिला होता और न ही एसपी-बीएसपी के साथ आने से बीजेपी  घबरा रही होती।

विनय गोयल की रिपोर्ट

Next9news

 

Check Also

Upendra-Kushwaha-to-Meet-BJP-Chief-Amit-Shah-on-Monday-Over-Seat-Sharing-in-Bihar-NDA

उपेंद्र को मनाने की कोशिश में शाह, तेजस्वी से बढ़ी नजदीकियां

नयी दिल्ली। मिशन 2019 के लिये बीजेपी अपने पुराने साथियों को हर हाल साथ में …