Breaking News
Home / Tag Archives: Hindi poem

Tag Archives: Hindi poem

massom

कठुआ रेप केस की आशिफा को श्रद्धांजलि- नन्हीं परी न जाने क्यूं बेजान हो गयी ना जाने क्यूँ आज वो चुप सी हो गई, कौन से दर्द मे वो निशब्द हो गयी। पापा का परी थी वो माँ की आंखों का तारा, दादा की गुड़िया थी वो पूरे घर की …

Read More »

शून्यता का सच

zeero

वो था इक सफर जिसमे तुम नहीं थे, वो था इक सफर जिसमे शब्द नहीं थे। वो था इक सफर जिसमे शून्यता ही थी, वो था इक सफर जिसमंे न ही थी पाने की इछा। वो था इक सफर जिसमें ना था कुछ खोने का डर, वो था इक सफर …

Read More »