Home / Tag Archives: social issue

Tag Archives: social issue

टीवी पर क्या यही देखना चाहते हैं दर्शक

bigg-boss-11

आजकल मनोरंजन के नाम पर टीवी चैनल कुछ भी दिखाने से नहीं चूक रहे हैं। उन्हें सिर्फ अपनी टीआरपी से मतलब होता है। इसके लिये वो सेलिब्रिटीज को मुंहमांगी रकम भी देते हैं। ये नामचीन कलाकार येनकेन प्रकारेण चैनल की टीआरपी लाने में कुछ भी करने से नहीं चूक रहे …

Read More »

दस रुपये का सिक्का

gramin_sewa

शुक्रवार की रात से मैं काफी परेशान था। आफिस से जब मैं घर पहुंचा तो देखा कि आॅटो वाले ने जो दस रुपये का सिक्का दिया वो नकली था। यह बात मुझे घर जा कर ही पता चली। बात इतनी बड़ी भी नहीं थी कि ज्यादा सोचा जाये। लेकिन यह …

Read More »

प्रद्युम्न हत्याकांडः पुलिस की भूमिका संदिग्ध

rayan murder

आज से दो माह पहले 8 सितंबर को रेयान इंटरनेशनल स्कूल में मासूम प्रद्युम्न की गला रेत कर नृशंस हत्या कर दी गयी थी। इस दर्दनाक कांड की गूंज न केवल हरियाणा बल्कि पूरे देश में सुनाई दी। इसे मीडिया ने भी प्रमुखता से टीवी और समाचार पत्रों में प्रसारित …

Read More »

बीजेपी की मंशा पर सवाल

rally bjp

केन्द्र में काबिज मोदी सरकार का दोहरा चरित्र अब धीरे धीरे सामने आने लगा है। एक तरफ सरकार के मंत्री चीनी सामानों के आयात में लगे हैं, वहीं दूसरी ओर उनके सहयोगी संगठन चीनी सामान का बहिष्कार करने के लिये जन आंदोलन चला रहे हैं। दीपावली के दौरान स्वदेशी जागरण …

Read More »

सपनों का सौदागर सुब्रत राॅय सहारा

subrat

पिछले तीन साल से सहारा समूह पर सेबी की वक्र दृष्टि है। दो साल तक जेल में रहने के बाद आजकल सुब्रत राॅय बेल पर चल रहे हैं। सेबी ने सहारा की वित्तीय योजनाओं पर धन जमा कराने पर रोक लगा रखी है। साथ पुराने खाताधारकों का बकाया धन वापस …

Read More »

सुप्रीम कोर्ट के आदेश को जनता का तमाचा

diwali

विनय गोयल के विचार नयी दिल्ली। आजतक हम लोगों को यह भ्रम था कि उच्चतम न्यायालय के आदेश अवहेलना करने की हिमाकत करना किसी के बस की बात नहीं है। लेकिन दिल्ली की जनता और सरकारों ने यह साबित कर दिया कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश उनके लिये कोई मायने …

Read More »

मोदी सरकार के बेवकूफ मंत्री

min health

मोदी सरकार के बहुत मंत्री ऐसे हैं जो अपने बेवकूफी के लिये जाने जाते हैं ऐसे ही एक राज्य मंत्री हैं अश्विनी चौबे उन्होंने फरमान दे कर अपनी और सरकार की फजीहत करा डाली कि बिहार से आने वाले लोगों को एम्स में प्रवेश करने की अनुमति न दी जाये। …

Read More »

पत्रकारिता के दोहरे चरित्र से सामना

Indian Journalism

जनसत्ता एक्सप्रेस में काम करने का अनुभव मेरे लिये काफी अहम् रहा। यहां नामचीन पत्रकार रवींद्र सिंह, सुरेश बहादुर सिंह, आलोक मेहरोत्रा व प्रेम नारायण मिश्र के सानिध्य में बहुत सीखने का अवसर मिला। यहां अरुण सक्सेना, प्रतिभा कटियार प्रणय मोहन सिन्हा आदि मेरे लिये आलोक सर स्वतंत्र भारत, धर्मयुग …

Read More »

आज के युवाओं में डिप्रेशन क्यों

depression 1

आज से दो तीन दशकों पहले मानसिक तनाव, अवसाद या डिप्रेशन आदि सुना भी नहीं जाता था। लेकिन आज मेट्रो सिटीज में अक्सर सुना जाता है कि युवावर्ग डिप्रेशन का शिकार हो रहे हैं। मानसिक तनाव और अवसाद से प्रभावित होकर अपनी जान देने की कोशिश कर रहे हैं। डिप्रेशन, …

Read More »

पत्रकारिता के मायने पार्ट 2- पत्रकारिता के खट्टे मीठे अनुभव

journalism-concept

पत्रकारिता की दूसरी पाठशाला मेरे लिये जनसत्ता एक्सप्रेस रहा। यहां प्रवेश करना भी मेरे लिये काफी संघर्षपूण रहा। 2001 यूपी की राजधानी से इस अखबार के प्रकाशन के लिये इंडियन एक्सपे्रस समूह ने विराज प्रकाशन से करार किया। विराज प्रकाशन ने संपादकीय विभाग की जिम्मेदारी दिवंगत वरिष्ठ पत्रकार घनश्याम पंकज …

Read More »