Breaking News
Home / Tag Archives: think people think (page 14)

Tag Archives: think people think

सपनों की मंजिल…

manjil

मंजिल अंजान गलियों में घूमता गया करीब होकर भी दूर मंजिल था ठोकर खाकर भी चलता गया दिल के करीब वो मंजिल था हर जुल्म को भी सहता गया दिल से संजोया वो मंजिल था करीब होकर भी भटकता गया अंजान गलियों में वो मंजिल था लोगों के तंज को …

Read More »

इंतज़ार…

woman-at-window

सुबह भेजने की जल्दी शाम को इंतज़ार करती है, घर आने की खुशी देरी का तकरार करती है, दिल में खुशी चेहरे पे गुस्सा आंखों से इकरार करती है, इश्क में इंसानियत की दिल से दीदार करती है, प्यार को लब्ज़ों से नहीं आंखों से बयां करती है, हुई देरी …

Read More »

वो पराई हो गई…

father-happiness-with-daughters

सपनों की वो गुड़िया जो संग में खेला करती थी वो पराई हो गई, कल तक थी वो लाड़ली बात बात में झमेला करती थी वो पराई हो गई, एक पेड़ की थी वो टहनी हर पल को संजोया करती थी वो पराई हो गई, परंपराओं की थी वो विडंबना …

Read More »

बेसहारा हो गया…

mother

बेसहारा हरे भरे बाग का बागवां बेसहारा हो गया, उम्मीदों में लगा पेड़ अब बड़ा हो गया, छांव के लिये तरसता बागवां बेसहारा हो गया, खून पसीने से सींचा पेड़ अब वो खड़ा हो गया, फल खाने के समय बागवां बेसहारा हो गया, चार दीवारियों से घिरा पेड़ अब हरा …

Read More »

जागों लाइनों में खड़े हो जाओ

india-flag-revolution

कवि की कविता जो लोगों को एहसास कराती हैं जिन्दगी से जुड़े फलसफों के बारे में… बचो देश के गद्दारों से, “भारत माता” का नारा लगाएगा नासमझी थी, समझाकर, देशवासियों को लूट जाएगा जागों लाइनों में खड़े हो जाओ, देश का काला धन खत्म हो जाएगा। तुम्हारे कंधों पे बंदूक …

Read More »

आम से खास बनता सोच का दायरा…

freedom-of-speech

हमारा संविधान जिसे हम हमारा कह रहे हैं, क्या वो हमारा हैं? दरअसल आज के वक्त में हमारा रहा ही नहीं हैं। मुझे 2014 के पहले का दौर याद आ रहा हैं, जहां पर सरकार की आलोचना करने पर हमले नहीं हुआ करते थे। वो दौर था जहां लोग खुलकर …

Read More »

संदेश कविता की पहल में…

pen

कवि की कविता जैसे किसी का पहला प्यार, दिल से जुड़े जज्ब़ात या फिर वो बात जो दिल की तह में बस गई हो। कविता वो एहसास हैं, जो मन में चल रही विडम्बनाओं को शब्दों के जरिए परोसा जाता हैं। किसी कवि की पहली कविता वे शुरूआती अक्षर होते …

Read More »

मुल्क की दुर्भाग्यवश आवाम, जो हो रही हैं कुर्बान…

parliament-building-india

500-1000 के नोटबंदी की गूंज आपको संसद से लेकर सड़क तक हर जगह सुनने को मिलेगी। 8 नवम्बर की मध्य-रात्रि प्रधानमंत्री का देश के नाम संबोधन पश्चात 500-1000 के पुराने नोट रद्दी हो गए। जिन्होंने भी वरसो-वरस से भ्रष्टाचार करके लाखों-करोड़ो रुपए बचा के रखे थे, अब महज वो कागज …

Read More »

जालिम को जो न रोके वो शामिल हैं जुल्म में…

protest-clipart

पीएम मोदी ने कहा लोगों को तकलीफें तो होगी सह लो…. क्या ऐसी ही तकलीफों की बातें की गई थी ? देश के तमाम हिस्सों से खबरें आ रही हैं कि कही इलाज की वजह से किसी बच्चे की मौत हुई, तो कहीं औरतों के साथ मारपीट की गई, तो …

Read More »

आखिर देश पर क्यों लग रहा है सवालिया निशान?

ndtv-india-final

आखिर क्यों उठाना पड़ा रवीश कुमार को यह कदम कि सहारा मूक अभिनय के सिवा कुछ और न मिला। इसका जवाब कौन देगा, खुद रवीश कुमार, एनडीटीवी या फिर हमारी शासन व्यवस्था, आखिर कौन? यह बहुत मार्मिक सवाल हैं लेकिन इसके बारे में सोचना तो पड़ेगा, कि आखिरकार क्यों किसी …

Read More »