Breaking News
Home / Tag Archives: think people think (page 2)

Tag Archives: think people think

….लोग जहर में डूबे किरदार क्यों हैं

Sad-Shayari

इतने बेताब इतने बेकरार क्यूं हैं, लोग जरूरत से ज्यादा होशियार क्यों हैं। सामने तो सभी दोस्त हैं लेकिन, पीठ पीछे दुश्मन हजार क्यों हैं। हर चेहरे पर एक मुखौटा है यारांे! लोग जहर में डूबे किरदार क्यों हैं। सब काट रहे हैं इक दूजे को, लोग सभी यहां दुधारी …

Read More »

ऐ! जिंदगी तेरे फलसफे समझ नहीं आते।

sketch

तेरी किताब के हर्फ समझ नही आते, ऐ! जिंदगी तेरे फलसफे समझ नहीं आते। कितने पन्ने हैं किसको संभाल कर रखूं, और कितने फाड़ दू सफे, समझ नहीं आते। चैंकाया है हर मोड़ पर ऐ जिंदगी यूं हर मोड़ पे, बाकी हैं और कितने शिगूफे, समझ नहीं आते। हम तो …

Read More »

हिसाब बराबर हुआ चलो कोई .गम नहीं

sad song

हिसाब बराबर हुआ चलो कोई .गम नहीं, हमारे पास तुम नहीं तुम्हारे पास हम नहीं। मेरी आंखों में छिपी उदासी को महसूस तो कर, हम वो हैं जो सब को हंसा कर सारी रात रोते हैं। वक्त का पता ही नहीं चलता अपनों के साथ, मगर अपनों का पता चलता …

Read More »

कुछ देर तो लगेगी आंसुओं को छुपाने में

deepika

यादों को भुलाने में, कुछ देर तो लगती है, आंखों को सुलाने में। किसी शख्स को भुला देना आसां तो नहीं होता, कुछ देर तो लगती है दिल को समझाने में। कुछ देर तो लगती है यादों को भुलाने में… भरी मेहफिल जब कोई अचानक याद आ जाये, कुछ देर …

Read More »

…. आईने के सामने खड़े हो के, खुद से ही मांग ली माफी मैंने

sad song

आईने के सामने खड़े हो के, खुद से ही मांग ली माफी मैंने। किसी ने यूंही पूछ लिया हमसे कि, दर्द की कीमत क्या है। हमने हंसते हुए कहा-पता नहीं, कुछ अपने तो मुफ्त में दे जाते हैं। आईने के सामने खड़े हो के, खुद से ही मांग ली माफी …

Read More »

यूपी और बिहार के वोटर देंगे देश को नया प्रधानमंत्री

govt of karnataka

आगामी आम चुनाव 2019 के लिये पूरे देश में यह चर्चा आम है कि क्या मोदीमैजिक एक बार फिर सिर चढ़ कर बोलेगा। एक बार फिर क्या अमित शाह की रणनीति 2014 वाला जादू कायम रख सकेंगे। मोदी के हाथ दोबारपीएम का ताज सजेगा। क्या विपक्षियों को एक बार फिर …

Read More »

तुम्हारे ग.म चुराऊंगा, दिल में तुम्हें छुपाऊंगा

sad song

तुम्हारे गम चुराऊंगा, फिर भी न मुस्कराई तो तुम्हें खूब गुगुदाऊंगा। फिर भी तुम्हारी आंख भर आयीं तो गले से तुम्हें लगाऊंगा। समेट कर तेरे हर जज्बात को, दिल में तुम्हे छुपाऊंगा। भूल जाओगी हर गम अपना, इतना तुम्हें हंसाऊंगा। ….दीपिका टंडन

Read More »

धर्म को आतंकवाद से जोड़ना गलत

collage2

 इन दिनों फिल्मों, टीवी सीरियलों, उपन्यासों इत्यादि में लगभग हमेशा मुस्लिम चरित्रों को आतंकवादी और अतिवादी के रूप में प्रस्तुत किया जाता है। अगर क्वांटिको के एक एपीसोड में एक हिन्दू को आतंकवादी दिखा भी दिया गया तो इस पर इतना बवाल किए जाने की क्या आवश्यकता है? समकालीन राजनीति …

Read More »

गर मंजिल पर पहुंचना है तो कांटों का सफर देखो।

Sad-Shayari

किसी के दर्द को पढ़ना हो तो उसकी मुस्कराहट को देखो, किसी की खुशियों को समझना है तो उसकी आंखें देखो। किसी से जीतना है गर तो पहले हार कर देखो, गर मंजिल पर पहुंचना है तो कांटों का सफर देखो। जो कुछ पाना की ख्वाहिश हो तो इंतजार करना …

Read More »

दिल में दर्द था फिर भी चेहरा हंसता दिखाई दिया

sad-breakup

आईना आज फिर रिश्वत लेते पकड़ा गया, दिल में दर्द था फिर भी चेहरा हंसता दिखाई दिया। हंस कर कुबूल क्या कर ली सजा मैंने, आपने तो दस्तूर ही बना लिया हर इल्जाम मुझ पर लगाने का। हाथ मेरे भूल बैठे हैं दस्तकें देने का फन, बंद मुझ पर जब …

Read More »