Breaking News
Home / Tag Archives: think writer think (page 10)

Tag Archives: think writer think

इंसानियत हूं मैं, पल-पल मर रही हूं….

ChwwBwcU4AAf15A

ऊपर लिखी पक्तियां न तो मैंने लिखी हैं न ही किसी प्रख्यात कवि ने। इन पंक्तियों को लिखा है वो हैं हमारे समाज की बदनाम गलियों में रहने वाली वेश्या । इनको समाज में कालगर्ल या धंधा करने वाली भी कहते हैं। ऐसी औरतों को लोग नफरत और बदनुमा दाग …

Read More »

एक वेश्या का खुला खत

kjfjh

वेश्या शब्द जैसे कानों में पड़ते ही लोगों के चेहरे पर मुस्कराहट रेंग जाती है। लोगों के दिमाग में सेक्स की अजीब सी इच्छा जाग्रत हो जाती है। यह सब इसलिये होता है क्योंकि उस महिला या लड़की बारे में कि वो एक सेक्सवर्कर है। सुनी सुनाई बातों पर एक …

Read More »

प्रेम का भोंडा प्रदर्शन क्यों!

lovers

आज भारत 21वीं सदी में प्रवेश कर रह है। मेट्रो सिटीज में लोग बाग मशीनी लाइफ जीने को मजबूर हो रहे हैं। ऐसे में जिंदगी से भावनाएं और प्यार खोता सा जा रहा है। रिश्तों की मिठास न जाने कहां खोती जा रही है। प्यार के लिये किसी के पास …

Read More »

किस राजनीतिक साजिश का अंजाम है, तीन तलाक़!

talaq

औरत ने जन्मा मर्दों को, मर्दों ने उसे बाजार दिया। जब जी चाहा, मसला-कुचला! जब जी चाहा, दुत्कार दिया !!! सामाजिक तौर पर तीन तलाक पर रोक लगाना मुस्लिम महिलाओं की हर समस्या का समाधान नहीं हो सकता, और न ही ये रातो-रात कोई ऐसा इंकलाब ला सकता है जिससे …

Read More »

लिव इन रिलेशनशिपः भारत में चुनौतियां

live in relationship 1

आज के समय में लिव इन रिलेशनशिप शब्द अनजाना नहीं रहा है। देश के मेट्रो सिटीज में यह एक फैशन का रूप लेता जा रहा है। हमारी संस्कृति काफी प्राचीन और खून में शामिल है। भारतीय समाज में कई संस्कार काफी परिवारों को बांधने में सफल रहे हैं। विवाह भारतीय …

Read More »

मुस्लिम वोट बैंक पर टिकी प्रदेश की राजनीति

uo election

देश का सबसे बड़ा राज्य उत्तर प्रदेश, देश की दशा और दिशा तय करने वाला सबसे बड़ा चुनाव उत्तर प्रदेश चुनाव। एक ऐसा चुनाव जो पूर्ण रूप से जाति और धर्म पर आधारित हैं। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बावजूद खुले तौर पर सभी राजनीतिक पार्टियां और दिग्गज नेता जाति, …

Read More »

शहादत पर भाषणबाजी

chief-of-indian-defence

सेना प्रमुख जब गद्दारों के खिलाफ़ सेना का फ़तवा जारी करते हैं तो यकिनन काफी अच्छा लगता है सुन कर। आई एस और पाक के झंड़े लहराने वालां को बकशा नही जायेगा। शहिदों की चितोंओं पर नेता तो अक्सर भाषण देते नज़र आते हैं। बड़ी-बड़ी बातें होती हैं, वादे किये …

Read More »

दिल्ली मेट्रो क्यों बनती जा रही है आफत…….

metro_cb4cffdc-6cc6-11e5-9358-ce0f694bc37c

24 दिसम्बर 2002 को दिल्ली मेट्रो की शुरुआत हुई, 160 मेट्रो स्टेशनों को जोड़ने वाली मेट्रो में करीब रोज़ाना 2 लाख से अधिक लोग इसमें यात्रा करते हैं, दिल्ली की लाइफ लाइन कही जाने वाली मेट्रो इन दिनों लोगों की परेशानी का सबब बनी हुई है । दिल्ली मेट्रो दिल्ली वालों …

Read More »

स्कूलों में असुरक्षित बच्चे, स्कूल प्रसाशन पर उठते सवाल

dc-Cover-ctk67ljrk3mu7n55sde6u3bvt7-20170209022827

स्कूलों में हो रहे बच्चों के साथ घिनौने दुर्व्यहार, हवस का शिकार बनाना जैसी घटनाएं बढ़ती जा रही हैं और ये थमने का नाम नहीं ले रहे हैं| सवाल ये पैदा होता है की क्या बच्चे स्कूलों में असुरक्षित हैं| स्कूलों में अध्यापकों के द्वारा हो रही छेड़छाड़, हवस का …

Read More »

अपनी अपनी मूर्तियों का विकास

up election

अपनी अपनी ढपली, अपना अपना राग कुछ राजनेता चुनाव से पहले मूर्तियां बनवाते हैं और कुछ चुनाव के दौरान, सबका अपना अपना मत है सभी की अपनी अपनी सोच है। एैसा नही है कि इन राजनेताओं ने प्रदेश में सभी समस्यों पर विजय प्राप्त कर ली है। यह तो महज …

Read More »