Breaking News
Home / देश / ‘लोकतंत्र के हित में न्यायपालिका की आजादी जरूरी’

‘लोकतंत्र के हित में न्यायपालिका की आजादी जरूरी’

नयी दिल्ली। सम्मेलन में आज का विषय वर्तमान परिवेश में काफी अहमियत रखता है। लोकतंत्र के हित में न्यायपालिका का आजाद होना बहुत ही जरूरी है। यह देश और न्यायपालिका दोनों के लिये महत्वपूर्ण है। कई बार जो काम व निर्णय सरकारों को करने चाहिये उन्हें अदालतों पर डाल दिया जाता है। यह वक्तव्य पूर्व न्यायाधीश व राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के सदस्य डी मुरुगन ने दिया। मुरुगन एक निजी कार्यक्रम में शिरकत कर रहे थे। इस कार्यक्रम का आयोजन वीआईटी स्कूल ऑफ लॉ वेल्लौर यूनिवर्सिटी द्वारा दिल्ली के इडिया हैबिटेट सेंटर मे आयोजित किया गया था।
इस कार्यक्रम में यूनिवर्सिटी के संस्थापक और कुलाधिपति डा जी विश्वानाथन ने कहा कि देश के नागरिक चाहते हैं कि न्यायधीश एकदम ईश्वर की तरह हो जिस पर वो पूरा भरोसा कर सकें। वर्तमान में तीन करोड़ मामले कोर्ट में लंबित हैं। एकएक केस को निपटाने में 21 साल लग जाते हैं। अमेरिका में दस लाख लोगों पर 107 जज हैं, जबकि भारत में तो सिर्फ 18 ही न्यायधीश तैनात किये गये हैं।
इस अवसर पर विवि की सह उपाध्यक्ष कादंभरी एस विश्वानथन, कुलपति आनंद ए सैमुअल व डीन प्रो. गांधी एम भी मौजूद थे।

विनय गोयल की रिपोर्ट

Next9news

Check Also

पंजाब में कांग्रेस के अभी भी असली सरदार है मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह

पंजाब कांग्रेस का एक वर्ग कैप्टन अमरिंदर सिंह को चूका हुआ मान रहा है। इनकी …