Breaking News
Home / Uncategorized / मानवीय मान्यताएं एवं न्याय जगत गोष्ठी-साईं बाबा की जन्मस्थली पर न्यायधीशों का लगेगा मेला
IMG_20180803_161016

मानवीय मान्यताएं एवं न्याय जगत गोष्ठी-साईं बाबा की जन्मस्थली पर न्यायधीशों का लगेगा मेला

नयी दिल्ली। साईं बाबा की जन्मस्थली आंध्र प्रदेश के पुट्टपर्थी स्थित प्रशांत निलयम में दो दिवसीय गोष्ठी का आयोजन किया जा रहा है। इसका विषय मानवीय मूल्यमान्यताएं एवं न्याय जगत है। इस गोष्ठी का आयोजन श्री सत्य साईं सेवा आर्गनाइजेशन के तत्वावधान में किया 11 अगस्त से शुरू किया जा रहा है। इस आयोजन में देश के जाने माने वरिष्ठ जज तथा अवकाश प्राप्त सुप्रीमकोर्ट व हाईकोर्ट न्यायधीश अपने विचार रखेंगे। यह अपने आप में देश का पहला आयोजन है जहां लगभग तीन दर्जन से अधिक न्यायधीश एक साथ किसी आयोजन शरीक हो कर मानवीय मूल्य मान्यताओं और न्यायजगत पर अपनी बेबाक राय प्रगट करेंगे। इस कार्यक्रम में भारत के मुख्य न्यायधीश दीपक मिश्र कार्यक्रम के मुख्य अतिथि रहेंगे।

श्री सत्य साईं सेवा आर्गनाइजेशन के अध्यक्ष निमिष पण्डया ने बताया कि हमारी संस्था व सत्य साईं बाबा मानव की सेवा को ही भगवान की सेवा मानते हैं। संस्था के पांच उसूल सत्य, अहिंसा, धर्म, प्रेम और शांति हैं। बाबा उस सर्वशक्तिमान भगावान की सृष्टि मानव को सबसे अधिक मान्यता देते हैं। इन विद्वान न्यायधीशों की गोष्ठी के आयोजन के द्वारा हम पूरे देश व समाज को एक सूत्र में जोड़ने और मानवधर्म को अपनाने का प्रयास कर रहे हैं। आज समय में यह देखा जा रहा है कि लोगों में संस्कारों और मूल्य मान्यताओं के प्रति रुझान कम होता जा रहा है। श्री पण्डया ने कहा कि बाबा की सोच यह है कि हमारी सोच सकारात्मक होनी चाहिये। हमें यह नहीं देखना है कि समाज हमारे लिये क्या कर रहा है ये देखें कि हम समाज व देश को क्या दे रहे हैें।

हमारा कर्तव्य है कि आने वाली पीढ़ी और युवाओं को हम कैसा समाज और देश सौंप रहे हैं। सत्य साईं आर्गनाइजेशन सदैव से समाज के उस तबके को सबल और सशक्त बनाने के लिये प्रयासरत रहती है। देश के नौ सौ स्कूलों को गोद लिया है जहां पर गरीब और असहायों परिवारों के बच्चों की मुफ्त शिक्षा दीक्षा का इंतजाम किया जाता है। इसके अलावा देश के अनेक प्रांतो में संस्था मेडिकल कैंप का आयोजन कर मुफ्त मेडिकल सुविधा कराती है।

दो दिवसीय गोष्ठी में पैनल की अध्यक्षता एनसीएलटी के अध्यक्ष और पूर्व सुप्रीमकोर्ट के जज एसजे मुखोपाध्याय करेंगे। समाज में सकारात्मक माहौल पैदा करने में न्यायजगत की भूमिका पर विभिन्न वरिष्ठ सिटिंग व अवकाशप्राप्त जज अपनी अपनी राय देंगे।
सुप्रीमकोर्ट के जज एनवी रमन्ना और सुप्रीमकोर्ट के पूर्व जज अमित्व राॅय भारतीय न्याय व्यवस्था में मूल्य मान्यता पर अपने प्रखर विचार प्रस्तुत करेंगे। आन्ध्र व तेलंगाना प्रदेश के हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस टीबी रामकृष्णन गोष्ठी में न्यायधीशों के कानूनी उसूलों और व्यवसायिक व्यवहारिकता पर विचार रखेंगे। संस्था के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष राकेश कपूर ने यह अपील की कि इस अभूतपूर्व कार्यक्रम भारी संख्या में शरीक हो कर सफल बनायें।

विनय गोयल की रिपोर्ट

Next9news

Check Also

Priya-Ramani-statement-on-MJ-Akbar

मोदी के दबाव में एमजे अकबर ने दिया इस्तीफा, पत्रकार प्रिया रमानी ने कहा मेरे आरोप सही साबित

नयी दिल्ली। भारत में मीटू अभियान के सबसे चर्चित शख्सियत केन्द्र सरकार में विदेश राज्य …