Breaking News
Home / मनोरंजन / रावण की सोने की लंका का पूरा सच
lanka

रावण की सोने की लंका का पूरा सच

राजस्थान के अलवर शहर से तकरीबन 3 किलोमीटर की दूरी पर एक रावण देहरा गांव है। लोग इस गांव का सीधा संबंध कहीं न कहीं रावण से बताते हैं। एक रिपोर्ट की मानें तो शास्त्रों की ओर से बताया गया है कि रावण यहां भगवान शंकर के रूप पार्श्वनाथ की पूजा करने आये थे और यहीं पर उसे मिला था पारस पत्थर जिसके संपर्क में आने से लोहा भी सोना के रुप में परिवर्तित हो जाता था और इसी पारस पत्थर के सहारे सोने की लंका भी तैयार करवाई गई जानिए क्या है कहानी।

रावण देहरा गांव में आज भी प्राचीन जैन मंदिर के भग्नावशेष पाए जाते हैं। इस मंदिर को लेकर ये मान्यता भी प्रचलित है कि इसका निर्माण खुद रावण ने ही करवाया था। बताया जाता है कि रावण और मंदोदरी यहां पर जब पार्श्वनाथ की पूजा में पूरी तरह से लीन थे तो इंद्रदेव प्रकट हुए पर्श्वनाथ की पूजा कर चमत्कारिक पारस पत्थर का वरदान लेने के लिए कहा वहीं इसके बाद रावण ने उनकी पूजा की और उन्हें पारस पत्थर मिल गया।

बताया जाता है कि इस चमत्कारिक पारस पत्थर के संपर्क में लोहा भी सोने में बदला जाता है। पहले रावण ने पारस पत्थर से लोहे को सोने में बदला और फिर इस स्वर्ण नगरी जिसे लंका कहा जाता है कि उसका निर्माण किया। बता दें कि रावण देहरा गांव के जैन मंदिर की मूर्तियों को बीरबल मोहल्ले में बने जैन मंदिर में रख गया है और इस मंदिर को रावण पार्श्वनाथ मंदिर भी कहा जाता है।

Check Also

irfan-khan

इरफान की बीमारी के बारे में अटकलें न लगायें, जल्द होंगे स्वस्थ -शूजीत सरकार

नई दिल्ली।  पिछले दिनों बॉलीवुड अभिनेता इरफान खान ने ट्विटर पर जानकारी दी कि वह एक ‘दुर्लभ बीमारी’ …