Breaking News
Home / देश / चुनाव स्पेशल / लाल बत्ती हटने के बाद दुखी हुए विधायक, एक ने कहा 2,500 रुपए में खरीदी थी……
lal batti

लाल बत्ती हटने के बाद दुखी हुए विधायक, एक ने कहा 2,500 रुपए में खरीदी थी……

नई दिल्लीः पंजाब में विधानसभा चुनाव जीतने के बाद कांग्रेस नेता अमरिंदर सिंह ने सरकार बनते ही लाल बत्ती यानी वीआईपी कल्चर को खत्म करने का ऐलान कर दिया। जिसके बाद पंजाब के कई विधायक परेशान हो गए हैं। दरअसल परेशान विधायकों में सिर्फ विरोधी दल के विधायक ही नहीं बल्कि सत्ता पक्ष के विधायक भी शामिल हैं।

एक अंग्रेजी अखबार में छपी खबर की मानें तो अब विधायकों को भी टोल टैक्स पर खड़ा होना पड़ता हैं, पैसे देने पड़ते हैं। एक विधायक ने बताया कि अब उनकी गाड़ी को देखकर कोई मानने को तैयार ही नहीं होता है कि वो विधायक हैं। साथ ही जब वो अपना आई कार्ड टोल टैक्स लेने वाले को दिखाते है तो उनका जवाब आता है कि ऐसा कार्ड तो कोई भी बना लेता है। साथ ही कुछ विधायकों का कहना था कि अब तो उनकी गाड़ी को देखकर पुलिस वाले तो सलाम भी नहीं ठोकते हैं।

दरअसल इस सब से परेशान पहली बार बने विधायक हो रहे हैं। उनकी शिकायत यह है कि हमारे सीनियर्स ने लाल बत्ती के मजे लिए हैं लेकिन जब हमारी बारी आई तो इसे भी हटा दिया गया। कुछ का तो कहना है कि हमने विधायक बनके ही बहुत बड़ी गलती कर दी। एक विधायक ने कहा कि मंत्रियों को तो शक्तियां प्राप्त है लेकिन विधायक के पास सिर्फ लाल बती ही होती थी अब वो भी नहीं रही, अब हमारा काम रह गया है बस फाइलों को मंत्रियों तक पहुचा देना।

कांग्रेस से पहली बार जीत कर विधायक बने एक शख्स ने कहा कि मैंने विधायक बनते ही 2500 रुपए खर्च करके लाल बत्ती खरीदी दी मगर अब उसे घर में रखा देख खुद पे हसीं आती हैं। खैर कोई नहीं हमारे महान विधायकों ने इसका भी हल निकाल लिया है। वो अब अपनी गाड़ी के पिछे पंजाब सरकार या पायलेट व्हीकल लिखवा लिया है जिस से उन्हें अब निकलने में आसानी हैं। खैर ये कोई पहला मामला नहीं है कि कोई नेता अपनी गाड़ी के पीछे पंजाब सरकार या बिहार सरकार लिखवाए। ऐसा कई बार देखने को मिला है कि लोग अपनी गाड़ियों के पीछे विधायक का बेटा, मंत्री का नाती इत्यादी लिखवाए होते हैं। इन सब से एक बात तो तय हो जाती है कि हमारे समाज में वीआईपी कल्चर की जो सोच बनी हुई है वो सरकार के महज इस कदम से तो बिल्कुल नहीं हटने वाली हैं। लेकिन फिर भी सरकार अपनी तरफ से एक नाकाम कोशिश में लगे हैं ताकि इसे खत्म किया जा सके। हम भी आशा करते है कि इसे बाकी मंत्री और विधायक भी संजीदगी से पालन करेगें।

लव कुमार की रिपोर्ट

Next9News

Check Also

Upendra-Kushwaha-to-Meet-BJP-Chief-Amit-Shah-on-Monday-Over-Seat-Sharing-in-Bihar-NDA

उपेंद्र को मनाने की कोशिश में शाह, तेजस्वी से बढ़ी नजदीकियां

नयी दिल्ली। मिशन 2019 के लिये बीजेपी अपने पुराने साथियों को हर हाल साथ में …