Breaking News
Home / देश / तेज बहादुर की पत्नी का दिखा सोशल मीडिया पर गुस्सा, बोली कौन मां अपने बेटे को फौज में भेजेगी।
tej bahadur

तेज बहादुर की पत्नी का दिखा सोशल मीडिया पर गुस्सा, बोली कौन मां अपने बेटे को फौज में भेजेगी।

नई दिल्ली:  सोशल मीडिया पर खाने की शिकायत का वीडियो डालने वाले BSF जवान तेज बहादुर को कोर्ट मार्शल कर दिया गया हैं। तेज बहादुर पर ये आरोप है कि उसने BSF की छवी खराब की हैं। तेज बहादुर के बर्खास्त होने के बाद उसकी पत्नी ने भी सोशल मीडिया पर अपना गुस्सा जाहिर करते हुए कहा की कौन मां अपने बेटे को अब फैंज में भेजेगी।

तेज बहादुर की पत्नी शर्मिला ने अपनी पती के बर्खास्तगी को लेकर कहा कि उन्होंने जवानों के हित में ये कदम उठाया था और पूरी दुनिया को अपना खाना दिखाया था। जिसेक बाद उन्हे कोर्ट मार्शल कर दिया गया।

शर्मिला ने सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि सरकार ने उनके पती के साथ बहुत गलत किया है उन्हे चाहिए था की वो उन्हे बाइज्जत घर भेजे। उनकी 20 साल की सर्विस पूरी हो चुकी थी। शर्मिला ने  आगे सवाल पूछते हुए कहा कि अगर ऐसा ही चलता रहा तो कौन मां अपने बेटे को फौज में भेजेगी। कौन पत्नी अपने पती को देश सेवा के लिए कहेगी। उन्होंने ऐसा कौन सा गुनाह किया था कि उन्हें डिसमिस कर दिया गया।

जानकारी दे दे की इस मामले की जांच BSF  की कोर्ट ऑफ इंक्वाइरी की थी। जिसमें जवान तेज बहादुर पर BSF की छवी खराब करने का आरोप लगाया गया। जिसके बाद उसे कोर्ट मार्शल कर दिया गाया। BSF  की कोर्ट ऑफ इंक्वाइरी में कहा गया है कि खाने को लेकर दूसरे जवानों ने शिकायत दर्ज नहीं कराई थी। जवानों का कहना था कि हाई ऑलटिट्यूड पर सादा दाल ही खाने को दी जाती है।

BSF  की कोर्ट ऑफ इंक्वाइरी ने तेज बहादुर को BSF की छवी खराब करने के लिए दोषी पाया। कोर्ट ऑफ इंक्वाइरी के मुताबिक शिकायत के लिए इंटरनल मैकेनिज्म होने के बावजूद तेज बहादुर ने पब्लिक प्लेटफॉर्म पर जाकर बीएसएफ की छवि को खराब की।

जानकारी दे दे कि तेज बहादुर को उनके 20 साल के करियर में 16 बार गोल्ड मेडल से नावाजा जा चुका हैं। वे इन सालो के दौरान पश्चिम बंगाल, मणिपुर, असम, त्रिपुरा में भी अपनी सेवाएं दे चुके हैं। और इन्ही 20 सालों के भीतर तेज बहादुर को चार कड़ी सजाएं भी मिल चुकी है जिसके तहत उन्हे क्वार्टर गार्ड मे भी रखा जा चुका हैं। जिसमें नशे में ड्यूटी करना, सीनियर का आदेश न मानना, बिना बताए ड्यूटी से गायब रहना और कमांडेंट पर बंदूक तानने तक का भी आरोप शामिल हैं।इन सब से एक ही बात सामने आती है कि अगर तेज बहादुर अनुशासनहीन था तो उसे करियर में 16 गोल्ड क्यों दिए गए।

Next9News

Check Also

Upendra-Kushwaha-to-Meet-BJP-Chief-Amit-Shah-on-Monday-Over-Seat-Sharing-in-Bihar-NDA

उपेंद्र को मनाने की कोशिश में शाह, तेजस्वी से बढ़ी नजदीकियां

नयी दिल्ली। मिशन 2019 के लिये बीजेपी अपने पुराने साथियों को हर हाल साथ में …