Breaking News
Home / देश / सरकार के फैसले के खिलाफ आलोक वर्मा ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया
Alok verma and rakesh

सरकार के फैसले के खिलाफ आलोक वर्मा ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया

नयी दिल्ली। देश की सबसे विश्वसनीय जांच एजेंसी सेंट्रल ब्यूरो इन्वेस्टीगेशन एजेंसी आजकल सुर्खियों में हैं। एजेंसी के दो बड़े आहदेदारों के बीच घमासान मचा हुआ है। सीबीआई डाइरेक्टर आलोक वर्मा ने स्पेशल डाइरेक्टर राकेश अस्थाना के बीच गंभीर लगाते हुए उनके खिलाफ घूसखोरी का मामला भी दर्ज कराया था। दो बड़े अधिकारियों के बीच खिंचती तलवारों को देख सरकार ने दोनों ही अधिकारियों को फोर्स लीव पर भेज दिया है। लेकिन सीनियर आईपीएस आलोक वर्मा को सरकार का यह फैसला नागवार गुजरा और उन्होंने इसके खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में रिट दायर की है। इस मामले की सुनवाई 26 अक्टूबर को की जायेगी।

सीबीआई यानी केंद्रीय जांच ब्यूरो में घूसकांड को लेकर उठी अंदरूनी कलह पर विवाद बढ़ता चला जा रहा है। सीबीआई के नंबर 1 और नंबर 2 के बीच में जारी घमासान के बीच सीबीआई चीफ आलोक वर्मा और स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना को छुट्टी पर भेज दिया गया है। वहीं ज्वाइंट डायरेक्टर एम  नागेश्वर राव को सीबीआई का अंतरिम निदेशक बनाया गया है।

अग्रिम आदेशों तक अब सीबीआई का संचालन एम नागेश्वर राव ही करेंगे. बता दें कि मोइन कुरैशी केस में कथित रूप से दो करोड़ रुपये घूस लेने के मामले में सीबीआई ने स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के खिलाफ केस दर्ज किया। जिसके बाद अस्थाना ने भी आलोक वर्मा पर घूस लेने के आरोप लगाए। इस मामले में सीबीआई ने कार्रवाई करते हुए सीबीआई हेडक्वार्टर पर छापे मारे और देवेंद्र सिंह को गिरफ्तार किय। मंगलवार को अदालत में सुनवाई के दौरान सीबीआई ने कहा कि राकेश अस्थाना और देवेंद्र सिंह के खिलाफ जबरन वसूली और जालसाजी के आरोप जोड़े गए हैं। कुमार को कथित तौर पर घूस लेने, रिकॉर्ड में हेरफेर के मामले में सोमवार को गिरफ्तार किया गया। अस्थाना और उनके बॉस सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा से जुड़े इस हाईवोल्टेज ड्रामा पर कांग्रेस लगातार मोदी सरकार पर हमला बोल रही है।

सीबीआई  के विशेष निदेशक राकेश अस्थाना के खिलाफ केस की जांच कर रहे  सीबीआई के डीआईजी मनीष कुमार सिन्हा, डीआईजी एसपी तरुण गाबा, डीआईजी जसबीर सिंह,  आईजी अनीश प्रसाद, डीआईजी केआर चौरसिया, रामगोपाल तथा  एसपी सतीश डागर का तबादला कर दिया गया है।

विनय गोयल की रिपोर्ट

Next9news

Check Also

सामूहिक रोजा इफ्तार करने पर बिजनौर के सपा विधायक पर हुआ केस दर्ज

उत्तर प्रदेश के बिजनौर जिले में सामूहिक तौर पर रोजा इफ्तार करने पर सपा विधायक …