Breaking News
Home / देश / चुनाव स्पेशल / हर चुनाव में नजरबंद होते है, ममता बनर्जी के भरोसेमंद अनुब्रत मंडल, जानिए मामला
Every election is under house arrest, Mamta Banerjee's trusted Anubrata Mandal, know the case

हर चुनाव में नजरबंद होते है, ममता बनर्जी के भरोसेमंद अनुब्रत मंडल, जानिए मामला

पश्चिम बंगाल की राजनीति में हिंसा लंबे समय से अपनी जगह बनाई हुई हिंसा का उपयोग राजनीतिक लोगों के द्वारा आम जनता को धमकाने और उनसे वोट खींचने के लिए अक्सर पश्चिम बंगाल की राजनीति में किया जाता रहा है. ऐसे ही एक शख्स है अनुब्रत मंडल. जो खुद ही तो कभी चुनाव नहीं लड़ते हैं लेकिन पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले में उनकी इतनी चलती है कि उनकी मर्जी के बिना वहां से कोई पता नहीं हिल सकता है. वही बीरभूम के जिले के पत्रकार यह बताते हैं कि अनुब्रत मंडल जो चाहे वह यहां करा सकते है. वैसे भी कुछ समय से बीरभूम जिले को बंगाल की बम की धरती भी कहा जाता है.

ममता के करीबी

अनुब्रत मंडल का नाम जिले में लेने से बड़ी संख्या में लोग कतराते हैं इसकी सबसे बड़ी वजह है उनका राजनैतिक कद. अनुब्रत मंडल स्वयं तो कभी चुनाव नहीं लड़ते लेकिन बीरभूम जिले में उनके कद का इस घटना से अंदाजा लगाया जा सकता है. बीरभूम की 11 विधानसभा सीटों में से जब तृणमूल कांग्रेस ने दुबराजपुर सीट पर आसिमा को टिकट दिया तो वह इस बात पर नाराज हो गए और उन्होंने कहा कि इस सीट की जीत की जिम्मेदारी वह नहीं ले सकते है. जिसके बाद तुरंत आनन-फानन में टीएमसी ने अपने प्रत्याशी बदल कर देवव्रत साह को कैंडिडेट बनाया.

उनकी इस दबंग छवि को देखते हुए चुनाव आयोग ने उनको चुनाव होने तक नजरबंद कर दिया है 27 अप्रैल की शाम 5:00 से 30 अप्रैल की सुबह 7:00 बजे तक उन पर कड़ी निगरानी रखी जा रही है. यही नहीं अपनी दबंग छवि के कारण 2016 के विधानसभा चुनावों में भी उन्हें नजरबंद रखा गया था.

Check Also

Jyoti AdityaRaj Scindia

कांग्रेस पर सिंधिया ने कसा तंज, कहा अब मांस…

कोरोनाकाल में जिन लोगों ने अपने परिवार के सदस्यों को खोया, उनके घर सांसद ज्योतिरादित्य …