Breaking News
Home / विशेष / Ooty : वो शहर जहां हुई थी स्नूकर की शुरुआत | Tamilnadu Tourism
ooty

Ooty : वो शहर जहां हुई थी स्नूकर की शुरुआत | Tamilnadu Tourism

अमन त्रिपाठी (NEXT9NEWS)

हर एक क्षेत्र किसी न किसी गतिविधि के लिए जाना जाता है. साथ ही हर क्षेत्र का अपना एक इतिहास भी होता है. हम आज आपको बताएंगे एक ऐसे शहर के बारे में जहां से एक खेल की शुरुआत हुई थी.

भारत देश अपनी प्राकृतिक खूबसूरती और अपने सुंदर हिल स्टेशन के लिए जाना जाता है. ये हिल स्टेशन पर्यटकों के लिए एक साफ और खूबसूरत गंतव्य स्थान बनाते हैं. ऊटी एक बहुत सुंदर हिल स्टेशन है. सुंदर घास के मैदान, साफ वातावरण, दूर तक फैली हरियाली इस शहर में आपका स्वागत करती है. यात्रा और प्रशंसा करने के लिए आपको ढेर सारी वजह देता है ये शहर. ये जगह पश्चिमी घाट क्षेत्र में 2240 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है. नीलगिरी जिले का मुख्यालय है यह शहर जहां दो पर्वत श्रृंखलाएं मिलती हैं. ऊटी का हर एक पर्यटक स्थल कभी न भूलने वाला और बेहतरीन अनुभव प्रदान करता है. आप जब भी इस शहर में घूमने के बाद वापस जाएंगे तो आपके साथ ही इस शहर से ढेर सारी यादें भी आपके साथ जाएंगी और आपको इस शहर में एक बार फिर घूमने के लिए विचार करने को मजबूर कर देगी.

यहां की संस्कृति में आपको कहीं न कहीं ब्रिटिश कल्चर भी देखने को मिलेगा. यहां पर ब्रिटिश स्थापत्य शैली में कई बिल्डिंग्स बनी हुई है. द लॉरेंस, वुडशेफर्ड और हेब्रोन स्कूल इसके उदाहरण हैं. अब आपको बताते हैं ऊटी के कुछ पर्यटन स्थल जहां घूमकर आपको अच्छा महसूस होगा. बॉटनिकल गार्डन 22 हेक्टेयर में फैला हुआ एक गार्डन है जो प्राचीन वनस्पतियों के लिए जाना जाता है. फोटोग्राफी के लिहाज से भी ये स्थान आपको निराश नहीं करेगा. टी फैक्ट्री से उठती खुशबू पर्यटकों के मन में दबे कहीं चाय के प्यार को एक बार फिर जगा देती है. चाय को मशीन से बनता देखना और पैक होते देखना पर्यटकों के लिए एक नया अनुभव होता है. डोडाबेता चोटी दक्षिणी भारत की 8 हजार 650 फीट की ऊंचाई पर स्थित साउथ इंडिया की एक सबसे लम्बी चोटी है.

ट्रैकिंग पसंद लोगों के लिए ये स्थान एक फेवरेट स्पॉट है. रोज गार्डन यहां पर आपको रोज की 20 हज़ार वैराइटीज देखने को मिलेगी. यह गार्डन भारत का सबसे बड़ा रोज गार्डन है. अवलांचे झील फिशिंग करने के लिए ये झील परफेक्ट स्पॉट है. ऊटी झील एक मेन मेड झील है. यहां एक बोट हाउस है जो पर्यटकों को बोटिंग का एक्सपीरियंस प्रदान करता है. मदुमलाई का वन्यजीव अभ्यारण्य टाइगर रिजर्व के लिए जाना जाता है. यहां पर जानवरों और वनस्पतियों की विविधता देखने को मिल जाएगी. सन 1882 में ब्रिटिश गवर्नर जॉन सुलिवान का बंगला था स्टोन हाउस. ऊटी में बना हुआ ये पहला बंगला है.

आज गवर्नमेंट आर्ट कॉलेज के प्रिंसिपल यहां रहा करते हैं. ऊटी माउंटेन रेलवे 1908 में ब्रिटिश सरकार द्वारा ये रेलवे चलाई गई थी. ट्रेन यहां आज भी प्राचीन भाप इंजन द्वारा चलाई जाती है. प्राचीन कला को प्रदर्शित करता है नीलगिरी जिले में स्थित स्टीफेंस चर्च. 19 वीं शताब्दी में ये चर्च बनाया गया था. तिब्बती बाज़ार, मुनिसिपल मार्केट, फार्मर्स बाज़ार, नीलगिरी सहकारी सुपरमार्केट, प्रभा मिनी सुपरमार्केट यहां स्थित कुछ बाज़ार है. ठहरने के लिए यहां आपको आपके बजट में होटल्स मिल जाएंगे. होटल लेक व्यू, होटल दर्शन, होटल श्रीकृष्ण रेजिडेंसी और सेलिब्रेशन कॉटेज यहां स्थित कुछ अच्छे होटल्स हैं. रेल, वायु और सड़क मार्ग से आप आसानी से ऊटी पहुंच सकते हैं. वायु मार्ग के लिए कोयंबटूर हवाई अड्डा सुगम मार्ग है. रेल मार्ग के लिए आपको कोयंबटूर रेल जंक्शन पर उतरकर टॉय ट्रेन लेनी होगी. अवालांचे और ऊटी झील, कलहत्ती वाटरफॉल और डियर पार्क यहां स्थित कुछ चुनिंदा हैंगआउट स्पॉट्स हैं. जहां आप दोस्तों और परिवार वालों के साथ अच्छा वक्त गुज़ार सकते हैं.

Check Also

1200px-Haridwar_Ganga_6

Haridwar|Best Place to Visit|Holy Place|Kumbh Mela 2021

हरिद्वार का हिंदू धर्म में बहुत महत्व है. हरिद्वार का अर्थ है भगवान तक पहुंचने …